अधूरी जांच कर शिक्षक को किया निलंबित, विरोध में ग्रामीण लामबंद

अधूरी जांच कर शिक्षक को किया निलंबित, विरोध में ग्रामीण लामबंद

Chandra Kishor Deshmukh | Publish: Sep, 16 2018 08:30:15 AM (IST) Balod, Chhattisgarh, India

जिला शिक्षा विभाग ने अधूरी जांच के आधार पर एक शिक्षक को निलंबित कर दिया। इस निलंबन के खिलाफ शाला प्रबंधन समिति और ग्रामीण लामबंद हो गए हैं।

बालोद. जिला शिक्षा विभाग ने अधूरी जांच के आधार पर एक शिक्षक को निलंबित कर दिया। इस निलंबन के खिलाफ शाला प्रबंधन समिति और ग्रामीण लामबंद हो गए हैं। उन्होंने अब जांच अधिकारी और शिकायतकर्ता के खिलाफ जांच की मांग की है। यह मामला ग्राम पर्रेगुड़ा में संचालित शासकीय प्राथमिक शाला के शिक्षक राम सिंह सिन्हा का है।

शिक्षक पर लगाया लापरवाह होने का आरोप
प्रभारी प्रधान पाठिका अनामिका देशलहरे ने शिक्षक राम सिंह पर आरोप लगाया कि वे लापरवाह हैं और देर से स्कूल पहुंचते हैं। साथ ही अन्य आरोप भी लगाए। प्रभारी प्रधान पाठिका ने मामले में शाला प्रबंधन समिति की न बैठक ली और बिना किसी सूचना के सीधे शिकायत कर दी। इस तरह की बात होने पर पहले शाला प्रबंधन समिति में बात रखनी चाहिए।

जांच अधिकारी भी एक पक्षीय जांच कर चले गए
शाला प्रबंधन समिति के अनुसार प्रभारी प्रधान पाठिका ने अभी तक किसी तरह की सूचना नहीं दी थी। जांच अधिकारी भी आए और प्रभारी प्रधान पाठिका से बात की और चले गए। निलंबित शिक्षक ने कहा कि सही जांच नहीं की गई और एकपक्षीय बयान लिया गया। एबीईओ मोहनी यादव एवं ऊषा ठाकुर ने मामले की जांच की है। शिक्षा विभाग की इस कार्रवाई और जांच अधिकारी पर भी अब सवाल भी उठ रहे हैं।

शिक्षक संगठन विरोध की तैयारी में, निलंबन आदेश वापस लेने की मांग
शिक्षक राम सिंह के निलंबन के खिलाफ शिक्षक संगठन में विरोध उतरने की तैयारी में है। जांच अधिकारी और शिकायकर्ता के खिलाफ मोर्चा खोलने की तैयारी में है। इधर ग्रामीण प्रकाशचंद ने बताया कि शिक्षक अच्छे से पढ़ाई कराते हैं, जिसकी जानकारी बच्चों ने भी दी है। वहीं शाला प्रबंधन समिति के अध्यक्ष के पति चन्द्रहास चक्रधारी ने भी बताया कि प्रभारी प्रधान पाठिका ने किसी भी तरह की जानकारी नहीं दी थी। लोग मामले की उचित जांच और निलंबन आदेश वापस लेने की मांग को लेकर जिला शिक्षा विभाग पहुंचे थे, लेकिन जिला शिक्षा अधिकारी से मुलाकात नहीं हो पाई।

स्कूल में तालाबंदी की चेतावनी
इधर ग्रामीण शंतानु निषाद, रेवा साहू, प्रकाश चन्द पटेल, राम नारायण निषाद, जीवन राम नारायण, रोहित, बीरबल ठाकुर ने कहा कि अगर निष्पक्ष जांच और कार्रवाई नहीं हुई तो स्कूल में तालाबंदी की जाएगी।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned