इस स्कूल में राष्ट्रगान के साथ पढ़ाई और भोजन के पहले मंत्र बोलना जरुरी, पढ़ें खबर

जिला मुख्यालय में जवाहर नवोदय विद्यालय में राष्ट्रगान और भारत माता की जय के साथ विद्यालय में प्रथम बैच के बच्चों की पढ़ाई गुरुवार से शुरू की गई।

By: Satya Narayan Shukla

Published: 10 Nov 2017, 10:44 AM IST

बालोद. जिला मुख्यालय में संचालित जवाहर नवोदय विद्यालय में राष्ट्रगान और भारत माता की जयकारे के साथ विद्यालय में प्रथम बैच के बच्चों की पढ़ाई गुरुवार से शुरू की गई। वहीं प्रथम दिन स्कूल की स्थिति, व्यवस्था देखने निरक्षण में एसडीएम हरेश मण्डावी भी पहुंचे। एसडीएम ने बच्चों से चर्चा की, प्रभारी प्राचार्य को निर्देश दिए कि बच्चों को किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। इधर पहले दिन कक्षा में सभी विद्यार्थियों को पाठ्य पुस्तक, कॉपी, किताब आदि का वितरण किया गया। साथ ही कुछ विषय की पढ़ाई भी करवाई गई। वहीं बाद में शिक्षकों और विद्यार्थियों के बीच बैठक की गई, जिसमें विद््यालय के शेड्यूल के बारे में चर्चा की गई।

तीन में से दो द्वार करें बंद, एक से हो प्रवेश
इधर एसडीएम हरेश मंडावी ने प्रभारी प्राचार्य से कहा कि विद्यालय में अभी तीन द्वार से प्रवेश हो रहा है, इनमें से दो द्वार को बन्द रखा जाए, केवल एक ही प्रवेश द्वार से आना-जाना करें। इधर प्रभारी प्राचार्य ने कहा इस विद्यालय परिसर में अनावश्यक प्रवेश न करें, हालांकि विद्यालय में चौकीदार की नियुक्ति जरूर की गई है, पर भी बच्चों की सुरक्षा पर कोई खतरामोल नहीं लेना चाहती। प्रभारी प्राचार्य ने बताया अब कुछ दिनों में विद्यालय के दो प्रवेश द्वार बन्द कर दिए जाएंगे।

मेनू में मूंगोड़ी, टमाटर चटनी और पनीर दें
कक्षा खत्म होने के बाद जब बच्चों के साथ शिक्षकों ने बैठक की और भोजन व नास्ते में बच्चों की पसन्द पूछी गई तो बच्चों ने अपनी पसन्द भी बताई, जिसमे बच्चों ने सबसे ज्यादा मंूगोड़ी, टमाटर की तली चटनी और पनीर को बनाने की बात कही। विद्यालय में बच्चों की पसन्द के अनुरूप भोजन दिया जा रहा है। साथ ही भोजन से पहले यहां पढ़ाई करने वाले बच्चों को वैदिक मन्त्र का उच्चारण कर ही भोजन ग्रहण करने का नियम बताया गया।

आई घर की याद, तो रोते बच्चों को माता-पिता से कराई गई बात
स्कूल लगने के पहले दिन कुछ बच्चे रोने लगे, उनसे पूछा गया तो बच्चों ने कहा उसे घर की याद आ रही है। मां-पापा से बात कहनी है। तब बच्चों की जिद पर प्रभारी प्राचार्य ने उनके पिता से फोन पर बात कराई। उसके बाद बच्चे चुप हो गए।

 

Jwaher navodya vidyalay
Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned