लॉकडाउन के बाद लौटने वाले श्रमिकों में सबसे ज्यादा बिहार व यूपी के

बिहार के लिए चलीं 69 ट्रेन, यूपी के लिए 49 ट्रेन

By: Santosh kumar Pandey

Published: 05 Jun 2020, 10:02 PM IST

बेंगलूरु. कोरोना महामारी के चलते हुए लॉकडाउन के बाद अपने मूल राज्य लौटने वाले श्रमिकों में सबसे बड़ी संख्या बिहार व उत्तर प्रदेश के मजदूरों की है। बिहार के लिए चलाई गई विशेष 69 ट्रेनों से 1,01,347, उत्तर प्रदेश के लिए 49 ट्रेनों से 70,161 लोग अपने घर लौटे।

इसी तरह झारखंड के लिए 21 ट्रेनों से 30,962, पश्चिम बंगाल के लिए 21 ट्रेनों से 30,851, ओडिशा के लिए 14 ट्रेनों से 21,461, राजस्थान के लिए 7 ट्रेनों से 9309, असम के लिए 6 ट्रेनों से 9136, मध्य प्रदेश के लिए 5 ट्रेनों से 7085, त्रिपुरा के लिए ४ ट्रेनो से 5704, उत्तराखंड के लिए 3 ट्रेनों से 3863, जम्मू और कश्मीर के लिए 3 ट्रेनों से 2,950, मणिपुर के लिए दो ट्रेनों से 3,090, हिमाचल प्रदेश के लिए 1 ट्रेन से 643, छत्तीसगढ़ के लिए एक ट्रेन से 1,205, केरल के लिए एक ट्रेन से 1,496, मिजोरम के लिए एक ट्रेन से 1,456, नगालैंड के लिए एक ट्रेन से 1,507 श्रमिकों, विद्यार्थियों व फंसे हुए पर्यटकों को उनके गृह जिले तक भेजा गया।

railway_01.jpg

दक्षिण-पश्चिम रेलवे ने चलाईं 209 श्रमिक स्पेशल

दक्षिण-पश्चिम रेलवे ने कर्नाटक सरकार के समन्वय से अब तक २०९ श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन कर यहां कार्यरत विभिन्न राज्यों के 3.02 लाख श्रमिकों को उनके गृह जिलों तक पहुंचाने में अहम भूमिका अदा की है। दपरे से पहली श्रमिक स्पेशल ट्रेन का परिचालन ३ मई को हुआ था। दपरे ने पहले एक लाख यात्रियों को मात्र 13 दिनों में उनके घर तक पहुंचाया था।

बेंगलूरु रेल मंडल ने सर्वाधिक 177 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया। इन ट्रेनों में 2,56,200 यात्रियों ने सफर किया।

tain_03.jpg

मैसूरु रेल मंडल ने ने 11 श्रमिक स्पेशल से 15,446 यात्रियों को गंतव्य के लिए रवाना किया।हुब्बल्ली मंडल ने ने २१ ट्रेनों से 30,580 तअगले एक लाख यात्रियों को केवल 6 दिनों में पहुंचाया गया।

Corona virus
Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned