सुप्रीम कोर्ट ने नकारा लेकिन आरक्षण मौलिक अधिकार बनाना चाहती है कांग्रेस

विरोध प्रदर्शन कर कांग्रेस ने केंद्र सरकार से शीघ्र हस्तक्षेप की मांग की

By: Priyadarshan Sharma

Published: 18 Feb 2020, 07:54 PM IST

बेंगलूरु. आरक्षण को मौलिक अधिकार नहीं बताने के सुप्रीम कोर्ट के निर्णय को लेकर कांग्रेस ने सोमवार को केंद्र सरकार के खिलाफ रोष प्रकट किया। नेता प्रतिपक्ष सिद्धरामय्या के नेतृत्व में टाउन हॉल पर विरोध प्रदर्शन कर कांग्रेस ने केंद्र सरकार से शीघ्र हस्तक्षेप की मांग की।

सिद्धरामय्या ने कहा कि इस फैसले के पीछे केंद्र सरकार का षढयंत्र है। केंद्र सरकार आरक्षण के पक्ष में नहीं रही है और कोर्ट में मामले को कमजोर तरीके से पेश करने के कारण कोर्ट अजा जजा और पिछड़ा वर्ग के लिए मौजूदा व्यवस्था को मौलिक अधिकार नहीं बताया। निर्णय से सामाजिक न्याय व्यवस्था को गहरी चोट पहुंची है। उच्चतम न्यायालय को अपने फैसले पर फिर विचार करने की जरूरत है। इसलिए केंद्र सरकार को यथाशीघ्र मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हमें अंदेशा है कि जिस प्रकार केंद्र सरकार ने नोटबंदी की घोषणा कर सबको चौंका दिया था उसी तर्ज पर एक दिन आरक्षण को खत्म कर सकती है। उन्होंने कहा कि आरक्षण सामाजिक न्याय प्रदान करता है लेकिन आरएसएस सार्वजनिक रूप से आरक्षण को समाप्त करने की बात करता रहा है। भाजपा भी संघ के उसी एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए आरक्षण की बुनियाद को अलग अलग तरीके से कमजोर कर रही है। इस दौरान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडूराव, ईश्वर खंड्रे, पूर्व सांसद वी.एस.उग्रप्पा सहित कई नेता उपस्थित थे।

Congress
Priyadarshan Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned