चांद अब हमारी मुट्ठी में!

चांद अब हमारी मुट्ठी में!
चांद अब हमारी मुट्ठी में!

Rajeev Mishra | Updated: 03 Sep 2019, 06:32:09 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

44 दिन बाद परखा गया लैंडर विक्रम का इंजन
तमाम कसौटियों पर शत-प्रतिशत खरा मिशन

बेंगलूरु. चंद्रमा के दक्षिणी धु्रव पर दो क्रेटरों 'मैंजिनस सी' और 'सिंपैलियस एन' के बीच लैंडर विक्रम का उतरना अब वक्त की बात रह गई है। 7 सितम्बर तड़के 1.55 बजे चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग की तमाम कसौटियों पर मिशन चंद्रयान-2 शत-प्रतिशत खरा उतरा है और बेंगलूरु में इसट्रैक स्थित मिशन ऑपरेशन कॉम्पलेक्स में दिन-रात डटे इसरो वैज्ञानिक कामयाबी के प्रति आश्वस्त हैं। अब उस ऐतिहासिक पल का इंतजार है जब चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग कर भारत अमरीका, रुस और चीन के बाद चौथा देश बनेगा।
दरअसल, वैज्ञानिकों के आत्मविश्वास की वजह मंगलवार को किया गया लैंडर का एक महत्वपूर्ण मैनुवर है। आर्बिटर से अलग होने के बाद लैंडर विक्रम का पहला मैनुवर सुबह 8.50 बजे तय था। वैज्ञानिकों के दिल की धड़कनें तेज थी क्योंकि लैंडर विक्रम में लगाए गए 800 न्यूटन क्षमता वाले 5 इंजनों का पहला परीक्षण होने वाला था। पहली बार लैंडर की प्रणोदन प्रणाली (प्रोपल्शन सिस्टम) को परखा जाना था। वह भी, मिशन लांच होने के 44 दिन बाद। सुबह 8.50 बजे महज ४ सेकेंड की लैम (लिक्विड अपोगी मोटर) फायिरंग के बाद आशंकाओं के बादल छंट गए और यह तय हो गया कि लैंडर विक्रम आगे का सफर भी पूर्व निर्धारित मानकों के हिसाब से तय करेगा। मैनुवर के बाद लैंडर चांद की 104 किमी गुणा 128 किमी वाली कक्षा में आ गया। आर्बिटर से अलग होने बाद वह 119 किमी गुणा 127 किमी वाली कक्षा में चक्कर काट कर रहा था।


अब चांद से 36 किमी दूर रह जाएगा लैंडर
हालांकि, लैंडर का असली मैनुवर तड़के 3.30 से 4.30 बजे के बीच होना तय है जिसके बाद वह बुधवार को चांद की 36 किमी गुणा 110 किमी वाली कक्षा में चक्कर लगाएगा। यानी, इस कक्षा में लैंडर विक्रम चांद की सतह से 36 किमी न्यूनतम दूरी (पेरिलून) और 110 किमी अधिकतम दूरी (एपोलून) पर होगा। 7 सितम्बर तड़के 1.40 बजे लैंडर दक्षिणी धु्रव के दो क्रेटरों 'मैंजिनस सीÓ और 'सिंपैलियस एनÓ के बीच पहुंचेगा और उसकी दूरी लगभग 30 किमी रहेगी। ठीक उसी पल बेंगलूरु स्थित मिशन ऑपरेशन कॉम्पलेक्स से कमांड भेजा जाएगा और विक्रम सॉफ्ट लैंडिंग के लिए निकल पड़ेगा। महज 15 मिनट बाद भारत के खाते में ऐतिहासिक उपलब्धि दर्ज होगी और करोड़ों भारतीयों की उम्मीदें पूरी होंगी।


लैंडिंग के समय आर्बिटर ठीक विक्रम के सीध में होगा
जब लैंडर विक्रम चंद्रमा की धरती पर उतरेगा तो ठीक उसी समय 100 किमी दूरीसे चक्कर लगा रहा आर्बिटर उसकी सीध में होगा। इसरो ने इसके लिए एक महत्वपूर्ण मैनुवर मंगलवार को 11.56 बजे किया। इस मैनुवर के बाद आर्बिटर की कक्षा भी 119 किमी गुणा 127 किमी से घटकर लगभग 100 किमी गुणा 100 रह गई है। अब जब लैंडर चांद की धरती पर उतरेगा तो चांद की कक्षा में चक्कर लगा रहा आर्बिटर ठीक उसके ऊपर रहेगा। यह धरती से संचार स्थापित करने एवं लैंडिंग की बेहतरीन तस्वीरें उतारने के दृष्टिकोण से बेहद अहम है। यहां गौर करने वाली बात है कि अभी तक चंद्रमा पर लैंडिंग की 38 बार कोशिश हुई है और कामयाबी दर लगभग 37 फीसदी है।


पीएम मोदी बनेंगे ऐतिहासिक पल का गवाह
चंद्रमा पर लैंडिंग के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसरो टेलीमेट्री एंड कमांड नेटवर्क (इसट्रैक) में मौजूद रहेंगे। वे देशभर के चुने हुए 100 छात्रों के साथ ऐतिहासिक पल का गवाह बनेंगे। पीएम 6 सितम्बर को बेंगलूरु पहुंचेंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned