कर्नाटक : आइएलआइ, वायरल बुखार के मामलों पर स्वास्थ्य मंत्री ने जताई चिंता

  • आइएलआइ के लक्षण वाले लोगों की भी कोविड के लिए जांच की जा रही है। 99.5 फीसदी नमूनों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है

By: Nikhil Kumar

Updated: 16 Sep 2021, 04:49 PM IST

बेंगलूरु. स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. के. सुधाकर (Dr. K. Sudhakar) ने इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस (आइएलआइ) और वायरल बुखार (Influenza-like illness and viral fever) के बढ़ते मामलों पर चिंता जताई है।

उन्होंने बुधवार को कहा कि आइएलआइ के मामले हर वर्ष आम तौर पर मानसून में सामने आते हैं। इस बार भी ऐसे मरीजों की संख्या बढ़ी है। प्रशासन स्थिति पर पैनी नजर रखे हुए है और सरकारी व निजी अस्पतालों से इनपुट जुटा रहा है। केरल की सीमा से सटे जिलों में निपाह जैसे लक्षणों के लिए राज्य पहले से ही सतर्क है। इसे लेकर स्वास्थ्य महकमे को जरूरी दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि आइएलआइ के लक्षण वाले लोगों की भी कोविड के लिए जांच की जा रही है। 99.5 फीसदी नमूनों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है। नए संक्रमण घटने से कोविड से राहत जरूर मिली है। लेकिन, लड़ाई जारी है। लोगों को चाहिए कि कोविड से जुड़ी पाबंदियों का सख्ती से पालन जारी रखें।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned