कित्तूर रानी चेनम्मा चिडिय़ाघर में सफारी के लिए बाघों का इंतजार

  • कित्तूर रानी चेनम्मा चिडिय़ाघर बाघ सफारी (Tiger Safari) शुरू करने की तैयारी में है। इसके लिए 20 हेक्टेयर जमीन चिन्हित की गई है।

By: Nikhil Kumar

Published: 05 Mar 2021, 11:21 AM IST

बेलगावी. बन्नेरघट्टा जैविक उद्यान (Bannerghatta Biological Park - बीबीपी) से तीन शेर मिलने के बाद बेलगावी स्थित कित्तूर रानी चेनम्मा चिडिय़ाघर (Kittur Rani Chennamma zoo) को अब दो बाघों (Tiger) का इंतजार है। केंद्रीय चिडिय़ाघर प्राधिकरण से अनुमति के बाद प्रदेश के दो चिडिय़ाघरों से दोनों बाघ भेजे जाएंगे।

कित्तूर रानी चेनम्मा चिडिय़ाघर बाघ सफारी (Tiger Safari) शुरू करने की तैयारी में है। इसके लिए 20 हेक्टेयर जमीन चिन्हित की गई है।

उप वन संरक्षक एम. वी. अमरनाथ ने बताया कि 8 से 10 दिन में बाघों के पहुंचने की उम्मीद है। बाघ सफारी को लेकर चिडिय़ाघर प्रबंधन, कर्मचारी और आगुंतक बेहद उत्साहित हैं।

बन्नेरघट्टा जैविक उद्यान (बीबीपी) की कार्यकारी निदेशक वनश्री विपिन सिंह ने बताया कि दो में से एक बाघ बीबीपी भेजेगा।

रेंज वन अधिकारी प्रकाश ने बताया कि सफारी के अंदर ही बाघों के लिए भोजन घर बनाया गया है। सुरक्षा को लेकर चिडिय़ाघर प्रबंधन बेहद सख्त है। किसी को भी बस से उतरने, बस से हाथ बाहर निकालने या बाघों को देखकर चिल्लाने की अनुमति नहीं होगी।

चिडिय़ाघर प्रबंधन के अनुसार मार्च के अंत तक तेंदुआ (Leopard), लकड़बग्घा और सियार सहित कई अन्य वन्यजीव अन्य चिडिय़ाघरों से यहां पहुंचेंगे। बाड़ों के निर्माण, बाघ सफारी और अन्य सुविधाओं पर करीब 50 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned