मन की बात छोडें और महादयी की बात करें प्रधानमंत्री

मन की बात छोडें और महादयी की बात करें प्रधानमंत्री

Shankar Sharma | Publish: Jan, 01 2018 10:36:13 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

स्वाधीनता सेनानी एचएस दौरेस्वामी ने महादयी जल बंटवारा विवाद को सौहार्दपूर्ण तरीके से हल करने के संबंध

बेंगलूरु. स्वाधीनता सेनानी एचएस दौरेस्वामी ने महादयी जल बंटवारा विवाद को सौहार्दपूर्ण तरीके से हल करने के संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से संबंधित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाकर चर्चा करने की मांग की है। टाउन हाल के सामने रविवार को बेंगलूरु नगर जिला कन्नड़ साहित्य परिषद, कर्नाटक उद्योग व वाणिज्य कन्नड़ संघ के संयुक्त तत्वावधान में महादयी विवाद को हल करने व उत्तर कर्नाटक के लोगों को पेयजल उपलब्ध करवाने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया।


प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि पिछले तीन दशक उत्तर कर्नाटक के बेलगावी, गदग, बागलकोट तथा धारवाड़ व आसपास के गांवों के लोगों की पेयजल की जरूरतों को पूरा करने के लिए मलप्रभा नदी में पानी का बहाव बढ़ाने की जरूरत है। लिहाजा महादयी नदी से कलसा-बंडूरी परियोजना के जरिए 7.56 टीएमसी पानी राज्य को दिया जाना चाहिए।


कन्नड़ साहित्य परिषद के अध्यक्ष मनु बलिगार ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा पेयजल उपलब्ध नहीं करवाने के कारण मानवाधिकारों का उल्लंघन हो रहा है। अंतरराष्ट्रीय जल नीति में भी सभी को पेयजल उपलब्ध करवाने का उल्लेख किया गया है। महादयी नदी का पानी गोवा राज्य से होकर अरब सागर में व्यर्थ बहकर चला जाता है। लिहाजा गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रीकर को पेयजल के मसले पर राजनीति नहीं करनी चाहिए।


बलिगार ने कहा कि हमारे कन्नड़ महासंघ में नौ से अधिक संगठन शामिल हैं। प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े लोगों के हस्ताक्षरों को लेकर राज्यपाल के जरिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पास ज्ञापन भेजा जाएगा।


वरिष्ठ साहित्यकार दौड्ड रंगेगौड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मन की बात कहना छोडक़र महादयी की बात करनी चाहिए और यह सभी कन्नडिग़ाओं का उनसे सादर अनुरोध है।


विरोध प्रदर्शन में कन्नड़ साहित्य परिषद की जिला परिषद के अध्यक्ष मायण्णा, एम तिमय्या, डॉ. बैरमंगला रामेगौड़ा, चन्नेगौड़ा, डॉ. केवी रामकृष्णा गौड़ा, टी तिम्मेश, सीवी देवराज सहित अनेक लोगों ने भाग लिया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned