हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ कड़ा कानून: सिद्धरामय्या

हिंसा भड़काने वालों के खिलाफ कड़ा कानून: सिद्धरामय्या

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Jan, 08 2018 12:59:21 AM (IST) Bangalore, Karnataka, India

मुख्यमंत्री ने रविवार को साधना संभ्रम यात्रा के 23 वें दिन दक्षिण कन्नड़ जिले के पुत्तूर में विभिन्न विकास कार्यक्रमों का शिलान्यास किया।

बेंगलूरु. मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने आरोप लगाया कि ईश्वर व धर्म के नाम पर राजनीति करके सत्ता हासिल करने के लिए भाजपा ने धर्मांध लोगों को अपना एजेंट बना रखा है। सांप्रदायिक तत्वों तथा दंगे भड़काने वालों से निपटने के लिए कड़ा कानून बनाया जाएगा।

मुख्यमंत्री रविवार को साधना संभ्रम यात्रा के 23 वें दिन दक्षिण कन्नड़ जिले के पुत्तूर में विभिन्न विकास कार्यक्रमों का शिलान्यास व उद्घाटन करने के बाद बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि हिंसा में प्राण गंवाने वाले मासूम, गरीब व पिछड़े वर्ग के बच्चे होते हैं। सांप्रदायिक दंगे भड़काने व व एक धर्म के लोगों को दूसरे धर्म के खिलाफ खड़े करने वाले लोगों के बच्चे कब दंगों में न तो मारे जाते हैं ना ही जेल ही जाते हैं।

सिद्धरामय्या ने कहा कि मैं भी हिंदू हूं और सिद्धरामेश्वरा हमारे गृह देवता हैं। हम उनकी ही पूजा करते हैं। क्या हमें भाजपा वालों से इस बारे में सबक सीखने की जरुरत है?

सिद्धरामय्या ने कहा कि सांप्रदायिक हिंसा में यदि कोई मारा जाता है तो तो उसे हिंदू की मौत कहा जाता है। दूसरे समुदाय का कोई व्यक्ति मारा जाता है तो क्या वह मौत नहीं है। गौरी लंकेश की हत्या हुई तो भाजपा का कोई नेता उनके पार्थिव शरीर का अंतिम दर्शन करने नहीं गया, क्या वे हिंदू नहीं थीं?

मुख्यमंत्री ने कहा कि मौतों व लाशों पर राजनीति कभी नहीं की जानी चाहिए और इस तरह की राजनीति करने वालों का जनता को तिरस्कार कर देना चाहिए और ऐसे लोगों को कभी समर्थन नहीं देना चाहिए।

भाजपा पर तटीय जिलों में सांप्रदायिक दंगे फैलाने की साजिश रचने का आरोप लगाते हुए सिद्धरामय्या ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने उनके सामने हाथ बांधकर खड़े रहने वाले प्रदेश के नेताओं को कांग्रेस को हराने के लिए सांप्रदायिक दंगे भड़काने के निर्देश दिए हैं और सांसद प्रताप सिम्हा ने इस बात की पुष्टि की है।

उन्होंने कहा कि दक्षिण कन्नड़ जिला सुशिक्षित व सुसंस्कृत लोगों का जिला है और ऐसे जिले में सांप्रदायिक ताकतों का आग लगाकर राजनीति करना निंदनीय है। ऐसे लोगों को यहां की जनता को कभी समर्थन नहीं देना चाहिए। उन्होंने कहा कि भाजपा के पास कोई कार्यक्रम नहीं है इसी वजह से वह सांप्रदायिक दंगे भड़काने व लाशों पर राजनीति करने का काम कर रही है।

सरकारी धन से साधना संभ्रम यात्रा निकालने के भाजपा नेताओं के आरोपों पर पलटवार करते हुए सिद्धरामय्या ने सवाल किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश यात्रा पर जाते हैं तो वे क्या अपने धन का इस्तेमाल करते हैं या सरकारी धन का? एक मुख्यमंत्री के तौर पर सरकारी धन से सरकारी कार्यक्रम आयोजित करने में गलत क्या है?

उन्होंने कहा कि राज्य प्रवास के दौरान प्रदेश की जनता से अपेक्षा से कहीं बढ़कर समर्थन मिल रहा है। इसे सहन नहीं कर पाने से भाजपा व जद(ध) के नेता सरकारी धन के दुरुपयोग के आरोप लगा रहे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned