scriptThe risk of ovarian cancer increases with age | उम्र बढऩे के साथ बढ़ता है अंडाशय कैंसर का खतरा | Patrika News

उम्र बढऩे के साथ बढ़ता है अंडाशय कैंसर का खतरा

locationबैंगलोरPublished: Jan 27, 2024 07:05:46 pm

Submitted by:

Rajeev Mishra

वृद्ध कोशिकाएं होती हैं जिम्मेदार
आइआइएससी के अध्ययन में नए खुलासे

उम्र बढऩे के साथ बढ़ता है अंडाशय कैंसर का खतरा
उम्र बढऩे के साथ बढ़ता है अंडाशय कैंसर का खतरा
बेंगलूरु. भारतीय विज्ञान संस्थान (आइआइएससी) के वैज्ञानिकों ने एक शोध में पाया है कि, बुढ़ापा बढऩे के साथ ही महिलाओं में अंडाशय कैंसर फैलने का खतरा भी बढ़ जाता है। वृद्ध होती कोशिकाएं इसके लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार होती हैं जो जवान कोशिकाओं की तुलना में कैंसर के लिए अधिक खतरनाक साबित होती हैं।
आइआइएससी में विकासात्मक जीव विज्ञान एवं आनुवंशिकी विभाग के प्रोफेसर राम रे भट्ट ने बताया कि, अस्पतालों में अंडाशय कैंसर के आने वाले मरीजों में उम्रदराज मरीज अधिक होते हैं। यह कैंसर अधिक उम्र होने पर तेजी से फैलता है। लोग समझ नहीं पाते हैं कि, ऐसा क्यों होता है? उनकी टीम ने यह जानने की कोशिश की कि, आखिर ऐसा क्या परिवर्तन होता है जिसके कारण वृद्धावस्था में इसका प्रसार होता है।
चूहों और मानव कोशिकाओं पर शोध
उन्होंने बताया कि, उनकी टीम ने पहले चूहों पर अध्ययन किया और फिर मानव कोशिकाओं पर व्यापक शोध किया। विशेष रूप से उन अंगों पर गौर किया गया जहां यह कैंसर जन्म लेता है। शोध में उन्होंने पाया कि, वृद्धावस्था में सामान्य कोशिकाएं एक अलग किस्म का सांचा तैयार करती हैं। यह जवान कोशिकाओं की तुलना में बिल्कुल अलग होता है। अभी तक इन्हें ठीक से तरह से नहीं देखा और समझा गया है। उनकी टीम ने इन कोशिकाओं का बारिकी से अध्ययन किया।
कीमोथेरेपी भी जिम्मेदार
प्रोफेसर भट ने बताया कि, जवान कोशिकाएं इन कैंसर कोशिकाओं से लड़ती हैं और दूर हटाती हैं। लेकिन, वृद्धावस्था में जब ये कोशिकाओं एक विशेष सांचा तैयार करती हैं तो वह कैंसर जैसी घातक बीमारी के लिए मददगार हो जाती हैं। कोशिकाओं का बूढ़ा होना एक तो उम्र बढऩे के साथ होता है। दूसरा, कीमोथेरेपी वाले ड्रग भी इसके लिए जिम्मेदार होते हैं।
सावधानी के साथ उपाय
उन्होंने कहा कि, अगर कीमोथेरेपी के दौरान ड्रग का डोज जरूरत से अधिक हो जाए तो उसका व्यापक प्रभाव पड़ता है। इसलिए कीमोथेरेपी को बेहद संतुलित और सटीक तरीके से देने की जरूरत है ताकि, कैंसर कोशिकाएं मरे लेकिन, प्रभाव नहीं पड़े। दूसरा, यह समझना है कि, शरीर क्यों बूढ़ा होता है। क्या शरीर के बूढ़ा होने की गति धीमी कर सकते हैं? उन्होंने कहा कि, शोध में यह पाया कि अगर, अगर कीमोथेरेपी सेनोलिटिक्स दवाओं के संयोजन में दिया जाए तो यह कारगर साबित हो सकता है।

ट्रेंडिंग वीडियो