निर्माणाधीन इमारत गिरी, 3 मरे, 15 के मलबे में फंसे होने की आशंका

निर्माणाधीन इमारत गिरी, 3 मरे, 15 के मलबे में फंसे होने की आशंका

Kumar Jeevendra | Publish: Feb, 15 2018 07:13:08 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

घटना के वक्त करीब 20 मजदूर निर्माणाधीन पांच मंजिला इमारात में काम कर रहे थे

बेंगलूरु. शहर के सर्जापुर रोड स्थित कसवनहल्ली के पुराने जेल रोड में गुरुवार को एक निर्माणाधीन इमारात गिरने से 3 निर्माण मजदूरों की मौत हो गई। पुलिस और दमकल विभाग के कर्मचारी मौके पर राहत और बचाव कार्य में जुटे हैं। राष्ट्रीय आपदा राहत बल के दल को भी बुलाया गया है। महापौर आर संपतराज ने भी मौके का दौरा किया है। बचाव कर्मियों ने 7 मजदूरों को मलबे से निकाल कर अस्पताल पहुंचाया है। मलबे में अब भी कम से कम 10 मजदूरों के फंसे होने की आशंका है।
अग्निमशमन बल के पुलिस महानिदेशक एम एन रेड्डी ने हादसे में तीन मजदूरों के मरने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि 7 मजदूरों को अस्पताल पहुंचाया गया है। घायल मजदूरों में से एक की मौत अस्पताल ले जाने के दौरान हो गई। मौके पर दमकल विभाग की आठ गाडिय़ां बचाव कार्य में जुटी हैं। बेलंदूर पुलिस के मुताबिक अभी राहत और बचाव कार्य जारी है।
मिली जानकारी के मुताबिक घटना के वक्त करीब 20 मजदूर निर्माणाधीन पांच मंजिला इमारात में काम कर रहे थे। घटना के बाद सबसे पहले स्थानीय लोगों ने मलबे में फंसे मजदूरों को निकालने का काम शुरु किया। घटना की सूचना पाकर पुलिस और दमकल विभाग के कर्मचारी भी मौके पर पहुंचे।

building collapsebuilding collapsebuilding collapsebuilding collapsebuilding collapsebuilding collapsebuilding collapsebuilding collapse

नियमों का उल्लंघन कर हो रहा था निर्माण
महापौर संपत राज ने कहा कि बिना मंजूरी के ही पांच मंजिले भवन का निर्माण किया जा रहा था। महापौर ने कहा कि पालिका ने सिर्फ तीन मंजिल के निर्माण की अनुमति दी थी। इस बीच, व्हाइटफील्ड क्षेत्र के पुलिस उपायुक्त अब्दुल अहद ने कहा कि निर्माणाधीन भवन का मूलत: मालिक केरल का है और अभी शहर से बाहर है। उन्होंने बताया कि इस भवन का मालिक कुन्नी अहमद और उसका दामाद रफीक शहर के एचएसआर ले-आउट में रहते हैं लेकिन दोनों फिलहाल शहर के बाहर हैं।
दो साल से रुका था काम
स्थानीय लोगों का कहना है कि इस भवन का निर्माण पिछले छह साल से चल रहा है लेकिन दो साल से किसी कारण काम रुका हुआ था। हालांकि, भवन निर्माण नियमों की अनदेखी के कारण इस तरह की यह कोई पहला घटना नहीं है। पिछले साल भी यशवंतपुर और जयनगर में भवन के तरफ धंस जाने की घटना हुई थी।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned