बांसवाड़ा : जिला मुख्यालय के एमजी अस्पताल में चूहे बेकाबू, सवा लाख रुपए खर्च कर चूहे भगाएगा प्रबंधन

बांसवाड़ा : जिला मुख्यालय के एमजी अस्पताल में चूहे बेकाबू, सवा लाख रुपए खर्च कर चूहे भगाएगा प्रबंधन

deendayal sharma | Updated: 23 Jun 2019, 01:05:16 PM (IST) Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा जिला मुख्यालय स्थित महात्मा गांधी अस्पताल में चूहे बेकाबू हैं। इनके लिए अस्पताल का प्रबंधन सवा लाख रुपए खर्च कर अस्पताल परिसर से चूहे भगाने की कवायद करेगा।

बांसवाड़ा. जिला मुख्यालय स्थित महात्मा गांधी अस्पताल का प्रबंधन सवा लाख रुपए खर्च कर अस्पताल परिसर से चूहे भगाने की कवायद करेगा। इसके लिए प्रबंधन ने निविदाएं आमंत्रित की है।
दरअसल, जिला अस्पताल में चूहे बेकाबू हैं। पुरुष व महिला सामान्य वार्ड के अतिरिक्त विभिन्न वार्डों में चूहों की भागदौड़ आए दिन नजर आती है। विशेष रूप से रात्रि में रोगी और उनके परिजनों को खासी परेशानी होती है। बेड के पास सामान रखने के स्टैंड से लेकर साथ लाए बिस्तर आदि पर घूमते नजर आते हैं। अस्पताल के कर्मचारी भी इन चूहों से परेशान हैं, लेकिन हर साल इनके नियंत्रण के लिए काम में ली जाने वाली सामग्री के लिए होने वाले टेंडर के बावजूद हालात काबू में नहीं है।

बांसवाड़ा : 14 दिन पहले ब्याही युवती पीहर से अचानक लापता, फिर कुएं में मिला शव

इसके मद्देनजर जिला मेडिकेयर रीलिफ सोसायटी के सदस्य सचिव की ओर से विभिन्न वस्तुओं को क्रय करने के लिए मोहरबंद निविदाएं आमंत्रित की गई हैं। यह निविदाएं 26 जून तक विक्रय कर 28 जून को खोली जानी है। इसमें निविदा संख्या लेखा/2019/04 में चूहे भगाने के लिए सामग्री उपलब्ध कराने के लिए एक लाख 25 हजार रुपए व्यय किया जाएगा। इसमें जो सामग्री मांगी गई है, वह कुतरने वाले जानवरों पर नियंत्रण के लिए हैं, लेकिन अस्पताल प्रबंधन विशेष रूप से चूहों को भगाने व कॉकरोच पर नियंत्रण की कवायद में जुटा है।
एक लाख रुपए की हवाई चप्पल भी
प्रबंधन अस्पताल में चिकित्सकों और कर्मचारियों के लिए एक लाख रुपए की हवाई चप्पलें भी खरीदेगा। बताया जाता है कि यह चप्पलें ऑपरेशन थियेटर, एमसीएच विंग, लेबर रूम में ड्यूटी करने वाले चिकित्सकों और कर्मचारियों के लिए खरीदे जाएंगे।
इनका कहना है....
इस बारे में प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डा. सर्वेश बिसारिया का कहना है कि अस्पताल में चूहे व कॉकरोच सहित अन्य बड़े जीव-जंतुओं पर नियंत्रण की सामग्री के लिए निविदाएं मांगी हैं। हमारा प्रयास यही है कि अस्पताल में आने वाले रोगियों और उनके परिजनों को ऐसे जीव-जंतुओं से परेशानी नहीं हों।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned