Video : बांसवाड़ा : ट्रक की चपेट में आने से किशोर की मौत, परिजनों ने मौताणे की मांग को लेकर लगाया जाम

पुलिस ने समझाईश कर खुलवाया जाम, मौताणे में मांगे थे 12 लाख रुपए

By: Ashish vajpayee

Published: 09 Dec 2017, 12:57 PM IST

बांसवाड़ा. जिले के सल्लोपाट थाना क्षेत्र के अंर्तगत राष्ट्रीय राजमार्ग 113 पर एक ट्रक की चपेट में आने से 17 साल के एक किशोर की मौत हो गई। हादसा अनास चौकी के पास सुबह करीब 6 बजे हुआ। ट्रक ने चौकी के पास नाकाबंदी के लिए लगे बेरीकेट्स के समीप ही झेर निवासी आतिश पटेल पुत्र भीमसिंह पटेल को चपेट में ले लिया और किशोर की मौके पर ही मौत हो गई। आतिश सडक़ पार करने की कोशिश कर रहा था इसी दौरान अचानक ट्रक की चपेट में आ गया और हाइवे पर ही तड़पते हुए उसकी मौत हो गई।

मौताणे की मांग को लेकर हंगामा

हादसे की सूचना मिलते ही किशोर के परिजन मौके पर पहुंचे और मौताणे की मांग करने लगे। गुस्साए परिजनों ने हादसे को लेकर करीब 2 घण्टों तक नेशनल हाईवे जाम किया। इस दौरान पुलिस ने मौके पर पहुंच कर परिजनों को काफी समझाया। इसके बाद लोगों ने जाम खोला। इस दौरान मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई और जाम लगने से कई वाहनों की भी कतार लग गई। परिजनों ने शव को चौकी के बाहर रख दिया और मौताणे की मांग कर रहे थे।

5 घण्टों तक चली समझाईश

चौकी के बाहर शव रखकर परिजनों ने मौताणे के रूप में 12 लाख रुपए की मांग की और हंगामा खड़ा कर दिया। हालाकि पुलिस की ओर से करीब 5 घण्टों तक समझाईश के बाद परिजनों ने मौताणे की मांग को छोड़ दिया और बिना किसी शर्त के शव का पोस्टमार्टम कराने के लिए राजी हो गए। क्षेत्र में हादसे की खबर चर्चा का विषय रही।

पहले भी उठी है मांगे

जिले में मौताणे की मांगे पहले भी उठती रही है। इसमें पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ती है। क्योंकि कई बार लोगों से समझाईश के बाद भी वह मौताणे की मांग पर अड़े रहते है। वहीं कुछ लोग समझदारी दिखाते हुए मौताणे की मांग को छोडक़र आगे की कार्रवाई में पुलिस का सहयोग करते है। मौताणा प्रथा एक कुप्रथा की तरह वागड़ क्षेत्र में जानी जाने लगी है।

Ashish vajpayee
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned