बड़ी खबर : बाल संरक्षण आयोग प्रदेशभर में कराएगा मनरेगा कार्यस्थलों पर बाल श्रम की पड़ताल, देखें वीडियो...

Child labor in MGNREGA, MGNREGA in Banswara : मनरेगा में बाल श्रम का मामला, पत्रिका की खबर का असर, राज्य बाल आयोग ने भी लिया प्रसंज्ञान, बीडीओ से तलब की रिपोर्ट

By: Varun Bhatt

Updated: 30 May 2020, 06:01 PM IST

बांसवाड़ा. जिले में मनरेगा के तहत कार्य स्थलों पर एवजी श्रमिक एवं बाल श्रम कराने के मामले में कार्रवाई शुरू हो गई हैं। मामले को गंभीरता से लेते हुए छोटी सरवन विकास अधिकारी हरिमोहन मेहर ने काचलापाड़ा के मेट शंकरलाल एवं आडीभीत के मेट प्रभुलाल को ब्लेक लिस्टेड कर दिया हैं। साथ ही नापला एवं कटूंबी ग्राम पंचायतों के एलडीसी धनजी यादव व हुकलाल को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया हैं। इसी बीच राजस्थान बाल सरंक्षण आयोग ने भी प्रसंज्ञान लेते हुए बांसवाड़ा की बाल कल्याण समिति से पूरे मामले में त्वरित कार्रवाई को कहा हैं। जिस पर जिला बाल कल्याण समिति ने विकास अधिकारी छोटी सरवन से तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी हैं। गौरतलब है कि मनरेगा कार्य स्थलों पर बाल श्रम को लेकर राजस्थान पत्रिका ने ‘ नाबालिगों से खुदवा रहे तालाब ’ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था। जिसके बाद विभिन्न स्तरों पर कार्रवाई शुरू की गई हैं।

बांसवाड़ा में मनरेगा का सच- मस्टररोल में बड़ों के नाम, कार्यस्थलों पर बच्चों से काम, देखें वीडियो...

जेजे एक्ट का उल्लंघन, जांच होगी
राजस्थान बाल आयोग सदस्य एवं जेजे प्रकोष्ठ प्रभारी डॉ. शैलेंद्र पंड्या ने जिला परिषद बांसवाड़ा के सीईओ गोविन्द सिंह राणावत से भी चर्चा कर मामले में तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी है। पंड्या ने बताया कि बाल श्रम की ये स्थितियां जेजे एक्ट की धारा 75 व 79 का उल्लंघन हैं। तीन दिन में रिपोर्ट मांगी गई है। आयोग प्रकरण में गंभीरता से कार्रवाई करेगा। जिला बाल कल्याण समिति सदस्य मधुसूदन व्यास ने बताया कि विकास अधिकारी से रिपोर्ट जुटा रहे है। साथ ही ऐसे प्रकरणों पर अंकुश के लिए प्रशासन से भी चर्चा की जा रही है।

Show More
Varun Bhatt
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned