बांसवाड़ा : नशे में स्कूल के स्टाफ रूम में पहुंचकर की गाली गलौच, पत्थरबाजी, घंटी बजाकर बच्चों को भगा दिया

राजकीय उप्रावि ढेबरी कलु का मामला, मांगी सुरक्षा

By: Ashish vajpayee

Published: 19 Jan 2018, 12:30 PM IST

बांसवाड़ा. जिले की बागीदौरा पंचायत समिति के राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय, ढेबरी कलु में समाजकंटक ने नशे में पहुंचकर गालीगलौज और पत्थरबाजी की। शिकायत पर संबंधित के खिलाफ पुलिस कार्रवाई भी अमल में लाई गई। वहीं गुरुवार को शिक्षकों ने जिला शिक्षा अधिकारी को घटनाक्रम से अवगत कराकर सुरक्षा मुहैया कराने की गुहार लगाई। विद्यालय के संस्थाप्रधान और शारीरिक शिक्षक ने जिला शिक्षा अधिकारी को बताया कि 15 जनवरी को दोपहर करीब एक बजे विद्यालय के समीप निवासरत थावरा पुत्र जीथा नशे में पहुंचा।

उसने स्टाफ रूम में आकर गालीगलौज की। इस दौरान महिला स्टाफ भी मौजूद था। समझाइश का प्रयास करने पर स्कूल की घंटी बजाकर बच्चों को भगा दिया। इसके बाद गोफण से पत्थरबाजी की। उन्होंने घटना की बीईईओ को जानकारी दी। अगले दिन अभिभावकों की बैठक बुलाई और आरोपित के खिलाफ कलिंजरा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराने का निर्णय कर इसे अमल में भी लाया गया। घटना को लेकर विद्यार्थियों और स्टाफ की सुरक्षा को लेकर उपखंड अधिकारी बागीदौरा को भी पत्र दिया है।

इसलिए हुआ विवाद

जानकारी के अनुसार आरोपित ने एसडीएमसी अध्यक्ष से कुछ रुपए उधार मांगे थे, लेकिन राशि नहीं देने पर उसने यह कहते हुए विद्यालय में धमाल मचाई कि उक्त विद्यालय की भूमि उसके परिवार के लोगों ने दी है। अब उसे एसडीएमसी अध्यक्ष बनाया जाए। बताया गया कि शिक्षकों ने थावरा से काफी समझाइश की, लेकिन वह नहीं माना।

‘काम करना सुरक्षित नहीं’

इधर, संस्थाप्रधान और शारीरिक शिक्षक ने गुरुवार को जिला शिक्षा अधिकारी को दिए पत्र में बताया कि घटनाक्रम के बाद विद्यालय में काम ? करना असुरक्षित है। इस पर डीईओ प्रेमजी पाटीदार ने पहले तो ब्लॉक शिक्षा अधिकारी बागीदौरा से घटना की जिला कार्यालय में सूचना नहीं देने पर नाराजगी जताई। इसके बाद संस्थाप्रधान और शारीरिक शिक्षक को सुरक्षा की दृष्टि से समीप के किसी विद्यालय में रिक्त पद पर लगाने के निर्देश दिए।

Show More
Ashish vajpayee
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned