3386 फ्रंट लाइन, हेल्थ केयर वर्करों को लगी कोरोना की वैक्सीन

स्थानीय जनपद में कोविड 19 से बचाव के लिए कोरोना वारियर्स का टीकाकरण हुआ।

बाराबंकी. स्थानीय जनपद में कोविड 19 से बचाव के लिए कोरोना वारियर्स का टीकाकरण हुआ। टीकाकरण के लिए जिलेभर में 20 केंद्र बनाए गए है। इन अस्पतालों में 375 फ्रंट लाइन वर्कर को मॉप अप राउंड एवं 3562 हेल्थ केयर वर्कर सहित 3937 फ्रंट लाइन वर्करो को मॉप अप राउंड एवं हेल्थ केयर वर्करों को दूसरी डोज का कोविड वैक्सीन लगाने का लक्ष्य था। इसके सापेक्ष 2808 महिला एवं 578 पुरूष समेंत कुल 3386 वर्करों को टीकाकरण किया गया। इसमें टीकाकरण में कार्यक्रम के दौरान टीकाकरण के लिए लोग अब केन्द्रो पर पहुंचकर काफी उत्साहित रहे।

जिला प्रतिक्षण अधिकारी डा राजीव सिंह ने बताया कि जिले में 3937 फ्रंट लाइन वर्करो को मॉप अप राउंड एवं हेल्थ केयर वर्करों का दूसरी डोज समेंत कोरोना टीकाकरण 86 प्रतिशत तक रहा। इसके तहत चिन्हित 20 अस्पतालों में 3386 लोगों को कोविड वैक्सीन लगाई गई। इसमे जिला पुरूष चिक्तिसालय 72, जिला महिला चिक्तिसालय 149, हिन्द मेडिकल कालेज 161, मेयो मेडिकल कालेज 257, आरएसघाट 321, सतरिख 193, हैदरगंढ़ 234, त्रिवेदीगंज 200, सिद्धौर 189, जाटा बरौली 167, दरियाबाद 122, सिरौली गौसपुर 209, देवा 149 , निन्दूरा (कुर्सी) 187, रामनगर 191, सूरतगंज 175, फतेहपुर 168, पुलिस हास्पिटल 43, डीएच मेल 33 समेंत कुल 20 केन्द्रो पर सफल पूर्वक टीकाकरण किया गया। डीआईओ ने बताया कि जिले में कोरोना टीकाकरण के लिए 120 कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई। उनका कहना है कि कोरोना टीकाकरण कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए पूरी तरह से सक्रिय है।

सीएमओ डा बीकेएस चौहान ने कहना है कि जनपद में 3386 उक्त वर्करों को दूसरी डोज का टीकाकरण लगाया गया। इसके सभी चरणों में कई स्थानों को मेरे द्वार निरीक्षण किया गया। इन सभी जगहों पर टीकाकरण का कार्य सुचारू होते पाया गया। कोरोना टीकाकरण को सफल बनाने के लिए सभी केन्द्र पर जिला स्तरीय 23 नोडल अधिकारियों को तैनात रहे। टीकाकरण पर पूरी नजर रखने के लिए एसीएमओ, डिप्टी सीएमओ के साथ ही मुख्यालय पर तैनात वरिष्ठ चिकित्सकों को लगाया गया।

टीका लगवाने से पहले दें पूरी जानकारी

टीका लगवाने से पूर्व यदि एलर्जी, बुखार, रक्त बहने या रक्त पतला करने की कोई दवा ले रहे हैं, या प्रतिरक्षा क्षमता कम है तो संबंधित स्वास्थ्य अधिकारी को जानकारी दें। गर्भवती या स्तनपान करा रही महिलाओं को भी टीका लेने से पहले स्वास्थ्य अधिकारी पूरी जानकार देनी चाहिए। सीरम इंस्टीट्यूट की फैक्टशीट के अनुसार कोविशील्ड टीका 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए है। यह टीका उन लोगों को नहीं लगना है जिन्हें पहली खुराक के बाद गंभीर रूप से एलर्जी हुई हो। इसके लिए चिकित्सक से परामर्श लें। कोविशील्ड से जुड़े प्रतिकूल प्रभाओं को लेकर सामान्य तौर पर तबीयत न लगना, थकान महसूस होना, कंपकंपी या बुखार सा महसूस होना, सिर दर्द, मतली, जोड़ो या मांसपेशियों में दर्द की शिकायत आम हो सकती है। वैक्सीन लगने के बाद कुछ घंटों में यदि कोई साइड इफेक्ट दिखता है तो इस बारे में वैक्सीन लगाने वाले को या टोल फ्री नंबर पर तत्काल जानकारी दें।

coronavirus कोरोना वायरस
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned