पर्यावरण व पौधों को बचाने के लिए किया सदबुद्धि यज्ञ

पर्यावरण व पौधों को बचाने के लिए किया सदबुद्धि यज्ञ

Ghanshyam Dadhich | Publish: Jan, 14 2019 07:20:02 PM (IST) Baran, Baran, Rajasthan, India

बडे पैमाने पर हो रहे खनन को रोकने की मांग की। समिति के सदस्यों ने आने साथ चल रहे फ ारेस्टर पवन सहरिया को नजारा दिखाते हुए वन विभाग पर वन क्षेत्र की हरितिमा खत्म करवा देने का आरोप जड़ा।

किशनगंज. पर्यावरण बचाओ संघर्ष समिति के सदस्यों ने रविवार को वन विभाग के अधिकारियों संग वन क्षेत्र में घूमकर अवैध खनन से बिगडे हालातों को दिखाया । बडे पैमाने पर हो रहे खनन को रोकने की मांग की। समिति के सदस्यों ने आने साथ चल रहे फ ारेस्टर पवन सहरिया को नजारा दिखाते हुए वन विभाग पर वन क्षेत्र की हरितिमा खत्म करवा देने का आरोप जड़ा। यहां वन क्षेत्र के समीप बनी लीज के बहाने वनभूमि पर भी खान बनाकर पत्थर निकाले जाने का दृश्य दिखाया। समिति के सदस्यों ने समीप ही लगे क्रेशर को वन भूमि में सेंध लगाने की बात कहते हुए बड़े पैमाने पर जांच की मांग की। इससे पूर्व सदस्यों ने चरागाह भूमि पर बनाई गई पंचफ ल योजना को लीज धारक द्वारा उजाडऩे से बचाने के लिए मौके से एसडीएम चन्दन दुबे से बात की। एसडीएम ने मामले की जांच करवाने का आश्वासन दिया।
सदबुद्धि की
प्रार्थना की
समिति के सदस्यों ने तालाब के नजदीक चारागाह भूमि पर ग्राम पंचायत द्वारा बनाई गई पंचफ ल योजना मे लगे पौधों को बचाने के लिए ढोलक मंजीरों के साथ हवन कर ईश्वर से खान विभाग के अधिकारियों को सदबुद्धि देने की प्रार्थना की।
समिति के संयोजक विष्णु पंकज ने बताया कि यहां ग्राम पंचायत ने लाखों रूपए खर्च कर पंचफ ल योजना तैयार की थी। खान विभाग ने पंचफ ल योजना से सटकर लीज देकर योजना की हरितिमा को उजड़वा दिया। बगिया में वर्तमान में एक भी पौधा नजर नहीं आ रहा है। लीज धारक द्वारा विस्पोट करने से पौधे खत्म हो गए। समिति के सदस्यों ने इस दौरान यहां पौधारोपण कर पौधों को बचाने का संकल्प लिया।
नदी किनारों से क्रेशर हटाने की मांग की
समिति के सदस्यों का कहना था कि खान विभाग के द्वारा पार्वती नदी में बनी लीज के आड़ में अवैध खनन किया जा रहा है। वहीं पार्वती नदी के किनारों पर बसे क्रेशर संचालक पार्वती नदी से अवैध खनन करवाने में जुटे हैं।
इससे पार्वती नदी का अस्तित्व दिनों दिन बिगड़ता जा रहा है। समिति सदस्यों का कहना है कि खान विभाग व प्रशासन द्वारा सडक़ किनारे क्रेशर लगाने की अनुमति दिए जाने से मुसाफि रों पर खतरा बना रहता है। पार्वती नदी के समीप स्थित क्रेशरों से उडऩे वाली धूल लोगों की सेहत खराब करने के साथ ही पर्यावरण को भी प्रदूषित कर रही है। समिति के सदस्यों ने अधिकारियों से क्रेशरों व लीजों की जांच की मांग के साथ ही पार्वती नदी व वन क्षेत्र के संरक्षण की मांग की।
युवकों ने बनाई अस्थाई चौकी
पार्वती नदी के कामठा छोर से अवैध खनन कर ट्रैक्टर ट्रोलियों से पत्थर भरकर ले जाने वाले माफि याओं को रोकने के लिए कस्बे के ही युवकों ने अमलावदा रोड़ पर कन्या छात्रावास के समीप टेंट लगाकर अस्थाई चौकी बना दी। यहां कस्बे के युवक हाथों में लाठियां लेकर बैठे रहे। खनन कर्ताओं को इस बात का पता चलते ही पूरे दिन एक भी ट्रैक्टर यहां से नहीं गुजरा। अस्थाई चोकी बनाकर बैठे युवकों का कहना था कि पुलिस व खान विभाग के अधिकारी पार्वती नदी से अवैध खनन पर अंकुश नहीं लगा रहे हैं। ऐसे में अब खुद जिम्मेदारी सम्भाल रहे हैं।
युवकों ने कहा कि जब तक प्रशासन खुद जिम्मेदारी नहीं सम्भाल लेता तब तक इस मार्ग पर ऐसे ही चोकी बनाकर अवैध खनन को रोकने का काम किया जाएगा। शुक्रवार को पत्थरों से भरे ट्रेक्टर ट्रोली ने एक गाय को कुचल दिया था तब से ही कस्बे के लोगों में प्रशासन के खिलाफ रोष है।
& यदि वन भूमि की सीमा में अवैध रूप से गतिविधियां हैं तो पूरे मामले की जांच करवाएंगे।
राजीव कपूर डीएफ ओ बारां
& क्रेशर संचालक को वनभूमि के पत्थर काम में लेने को लेकर नोटिस दियार हुआ है। वनभूमि की सीमा के दायरे में यदि क्रेशर व लीज है तो जरूर कार्रवाई करेंगे।
पवन सहरिया फ ोरेस्टर किशनगंज
रिपोर्ट - हंसराज शर्मा द्वारा
-----------------------

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned