बारां में एबीवीपी ने उड़ाई खुशबू,निर्दलीयों ने लूटी

बारां में एबीवीपी ने उड़ाई खुशबू,निर्दलीयों ने लूटी

Shivbhan Sharan Singh | Publish: Sep, 11 2018 09:07:23 PM (IST) Baran, Rajasthan, India

-महाविद्यालय छात्र संघ चुनाव
परिषद ने सबसे बड़े महाविद्यालय में फहराया परचम
-एबीवीपी के ३, निर्दलीय २ व एनएसयूआई का १ अध्यक्ष

बारां. जिले के छह महाविद्यालयों के मंगलवार को घोषित हुए चुनाव परिणाम में एबीवीपी का पलड़ा भारी रहा। तीन महाविद्यालयों में विद्यार्थी परिषद, दो में निर्दलीय तथा एक महाविद्यालय में एनएसयूआई ने अध्यक्ष पद पर कब्जा जमाया। जिले के सबसे बड़े राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय बारां में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सौरभ मालव ने एकतरफा मुकाबले में एनएसयूआई के विजय बैरवा ७८७ मतों से करारी शिकस्त दी। यहां की हार कांग्रेस नेताओं के लिए किसी बड़े सबक से कम नहीं है। पिछले चुनाव में इस कॉलेज में एनएसयूआई ने अध्यक्ष पर कब्जा जमाया था। जबकि कन्या महाविद्यालय में एनएसयूआई ने अध्यक्ष समेत चारों पदों पर जीत दर्ज कर चौंकाया। यहां अध्यक्ष पर एनएसयूआई की प्रियंका गोस्वामी २८० मतों से चुनाव जीती। राजकीय महाविद्यालय केलवाड़ा में कड़े मुकाबले में एबीवीपी के राजा सोनी १३ मतों से विजयी रहे। राजकीय महाविद्यालय मांगरोल में अध्यक्ष पद पर निर्दलीय उम्मीदवार त्रिलोक मेघवाल १५ से जीते। छबड़ा के राजकीय महाविद्यालय में एबीवीपी के रवि लोधा ७१ मतों से तथा अमरचंद राजकुमारी बरडिया महाविद्यालय में निर्दलीय राजेन्द्र मेहता ने १५५ मतों से जीत दर्ज की।
राजकीय पीजी कॉलेज
राजकीय स्नातकोत्तर महािवद्यालय में अध्यक्ष के लिए सौरभ मालव को १२४८ तथा एनएसयूआई के विजय बैरवा को ४६१ मत मिले। एबीवीपी के ही अजय शर्मा ८०८ मत लेकर उपाध्यक्ष चुने गए। उनके प्रतिद्वंद्वी को त्रिभुवन को ६१४ मत मिले। शर्मा को १९४ मतों से विजयी घोषित किया गया। महािसचिव पद पर एनएसयूआई के विनोद मीणा को ६९३ व एबीवीपी के हेमन्त को ४९३ मत मिले। मीणा २०० वोटों से विजयी रहे। जबकि संयुक्त सचिव पद पर एबीवीपी की मीनाक्षी मीणा को चुनाव में सर्वाधिक १४४६ मत प्राप्त कर विजयी रहीं।
राजकीय कन्या महाविद्यालय
कन्या महाविद्यालय में चारों पदों पर जीत की बाजी एनएसयूआई के पक्ष में रही। अध्यक्ष पर संगठन की प्रियंका गोस्वामी ने २८०, उपाध्यक्ष पर प्रियंका कुमारी ने २५९, महासचिव पद पर विशाखा सामरिया २३ व संयुक्त सचिव पद पर रविना नागर २४२ मतों से चुनाव जीतीं। इन सभी विजयी उम्मीदवारों का मुकाबला एबीवीपी की उम्मीदवारों से था।
पहले इनके, फिर उनके ढोल
राजकीय कन्या महाविद्यालय में एनएसयूआई उम्मीदवारों की जीत से उत्साहित कांग्रेस समर्थकों ने महाविद्यालय के बाहर जमकर ढोल-नगाड़े बजा जीत का जश्न मनाया। इसमें एनएसयूआई पदाधिकारियों के अलावा कांग्रेस के कई नेता भी शामिल रहे। लेकिन कांग्रेस खेमे की यह खुशी उस समय मायूसी में बदल गई जब राजकीय स्नातकोत्तर का परिणाम आया। यहां भारी मतों से एबीवीपी प्रत्याशी की जीत ने भाजपा खेमे को खुशियों से सराबोर कर दिया। मालव के जुलूस में ढोल-नगाड़ों की थाप पर जमकर थिरके।
यह बोले निर्वाचित अध्यक्ष
समस्याओं का समाधान ही ध्येय
राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में अध्यक्ष चुने जाने के बाद एबीवीपी के सौरभ मालव ने कहा कि यह जीत महाविद्यालयों के छात्रों की जीत है। उन्होंने राजनीति नहीं, छात्र समस्याओं के निराकरण के ध्येय को लेकर चुनाव लड़ा था। अब उनकी प्रमुखता इन समस्याओं के समाधान की रहेगी। इस जीत ने विद्यार्थी परिषद की नीतियों पर मुहर लगा दी है।
रिक्त पदों पर नियुक्ति को प्राथमिकता
कन्या महाविद्यालय की छात्र संघ अध्यक्ष प्रियंका गोस्वामी ने कहा कि महाविद्यालय में कई वर्षों से व्याख्याताओं के पद रिक्त हैं, इससे यहां पढ़ाई का माहौल तक नहीं बनता। ऐसे में उनकी पहली प्राथमिकता यहां रिक्त पदों पर नियुक्तियों की रहेगी। गोस्वामी ने चारों पदों पर जीत का श्रेय एनएसयूआई व कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दिया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned