लोकतंत्र रक्षक सेनानी को यहां पुलिस ने किया मुचलका पाबंद, जानिए ऐसा क्या हुआ?

लोकतंत्र रक्षक सेनानी को यहां पुलिस ने किया मुचलका पाबंद, जानिए ऐसा क्या हुआ?

suchita mishra | Publish: Jun, 14 2018 11:40:13 AM (IST) | Updated: Jun, 14 2018 03:51:38 PM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

लोकतंत्र रक्षक सेनानी वेद प्रकाश ने इस मामले में केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार से पुलिस की शिकायत की है।

बरेली। भले ही उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया पुलिस की कार्य प्रणाली सुधारने के लिए लाख कोशिश कर रहें हों, लेकिन पुलिस सुधरने का नाम नहीं ले रही है। बरेली पुलिस की एक कार्रवाई से पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लग गया है। जिन लोकतंत्र रक्षक सेनानियों को सरकार सम्मानित करती है, उन्हीं से बरेली पुलिस को शांति भंग का खतरा पैदा हो गया है। पुलिस ने लोकतंत्र रक्षक सेनानी वेदप्रकाश को मुचलका पाबंद कर दिया है। बारादरी थाने की पुलिस की इस करतूत से वेदप्रकाश खासे नाराज हैं और उन्होंने इसकी शिकायत एसएसपी से की है।

क्या है मामला
बारादरी थाना क्षेत्र के रहने वाले 72 वर्षीय लोकतंत्र रक्षक सेनानी वेद प्रकाश वर्मा और भाजपा के महानगर महामंत्री अरुण कश्यप के ऊपर पुलिस ने 107 /16 की कार्रवाई की है। दरअसल 2 जून को बरेली में आंधी आई थी। उस दौरान कुतुब शाह की ज्यारत की दीवार पर रखी कुछ ईंटे गिर गई थीं। पुलिस को सूचना दी गई कि हिंदुओं ने धार्मिक स्थल की ईंटे गिरा दीं। मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले की जांच की तो पता चला कि ईंटे आंधी से गिरी हैं जिनको पुलिस वालों ने उठा कर रख दिया। इस दौरान कांकर टोला चौकी इंचार्ज ने लोकतंत्र रक्षक सेनानी वेद प्रकाश वर्मा और भाजपा के महानगर मंत्री अरुण कश्यप को मुचलका पाबन्द कर दिया। पुलिस ने इस मामले में शांति भंग की आशंका को देखते हुए दूसरे पक्ष को भी मुचलका पाबंद किया है।

नाराज हुए लोकतंत्र रक्षक सेनानी
वेद प्रकाश वर्मा का कहना है कि सरकार हमको सम्मानित करती है जबकि पुलिस हमें अपमानित कर रही है। वेद प्रकाश वर्मा ने इसकी शिकायत केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार से की जिसके बाद उन्होंने एसपी सिटी और बारादरी थाना प्रभारी को फोन करके नाराज़गी ज़ाहिर की। वहीं भाजपा के महानगर मंत्री का कहना है कि थाने में हमारा और वेद प्रकाश जी का नाम संभ्रांत नागरिकों में लिखा है। जब भी कोई साम्प्रदायिक तनाव होता है कोई कानून व्यवस्था की बात होती है तो पुलिस हम लोगों को बुलाती है। ताकि मामला निपट जाए। 2011 में हुए ज्यारत के विवाद में भी प्रशासन ने एक 10 सदस्यीय कमेटी बनाई थी, जिसमें पांच हिन्दुओं और पांच मुसलमानों को रखा गया था। उस कमेटी में भी अरुण कश्यप और वेद प्रकाश वर्मा को भी शामिल किया गया था। अरुण का कहना है पुलिस हमेशा जिन लोगों की मदद से बड़े बड़े विवाद निपटाती है, आज उन दोनों को ही मुचलका पाबन्द कर दिया है।

नहीं हुआ अपमान
वहीं इस मामले में एसपी सिटी अभिनंदन सिंह का कहना है कि बारादरी थाना क्षेत्र के शाहदाना इलाके में एक विवादित कुतुब शाह की ज्यारत है जिसको लेकर कई बार विवाद हो चुका है। उनका कहना है ये रमजान का महीना है और ईद भी है। इस दौरान कोई विवाद न हो जिस वजह से दोनों समुदाय के लोगों को मुचलका पाबन्द किया गया है। उनका कहना है कि चौकी इंचार्ज ने जो मुचलका पाबन्द की कार्रवाई की है वो बिल्कुल सही है और इसमें किसी का अपमान नहीं किया गया है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned