अस्पताल के दूसरे फेज के बाद आइपीडी और ओपीडी में मिलेगी बेहतर चिकित्सा सुविधाएं

चिकित्सा शिक्षा सचिव का बाड़मेर दौरा

अस्पताल की इमारत पुरानी,  काफी बदलाव की जरूरत

By: Mahendra Trivedi

Published: 21 Jul 2021, 09:36 PM IST

बाड़मेर. चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गलारिया ने बुधवार को जिला अस्पताल का निरीक्षण करते हुए यहां पर व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए नए निर्माण का निरीक्षण किया। उन्होंने अस्पताल के पुराने भवन का निरीक्षण करने के बाद चिकित्सा अधिकारियों के साथ विस्तृत चर्चा की। इससे पहले उन्होंने परिसर का अवलोकन किया।
कोविड की तीसरी वेव की आशंका और मेडिकल कॉलेज निर्माण के दूसरे फेज को लेकर बाड़मेर आए शिक्षा सचिव ने अस्पताल में सुविधाएं बढ़ाने के साथ अन्य समस्याओं को करीब से देखा। उन्होंने मरीजों से भी बातचीत की।
बाड़मेर अस्पताल ने अच्छा काम किया
उन्होंने कोविड के दौरान अस्पताल की क्षमता से अधिक और बेहतर कार्य को सराहा। गलारिया ने कहा कि यहां पर काफी कम सुविधाएं रही, इसके बावजूद मरीजों को ऑक्सीजन और अन्य चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करवाने में प्रबंधन ने अच्छा कार्य किया। जिससे मरीजों को राहत मिली।
नया स्ट्रक्चर बनने के बाद बेहतर होंगी सुविधाएं
मेडिकल कॉलेज से सम्बद्ध जिला अस्पताल में दूसरे फेज के निर्माण के बाद नया स्ट्रक्चर तैयार होने पर आइपीडी, ओपीडी व डाइग्नोस्टिक आदि की बेहतर सुविधाएं मरीजों को उपलब्ध होगी। शिक्षा सचिव ने बताया कि अस्पताल की इमारत पुरानी है, इसलिए यहां पर काफी बदलाव की जरूरत है। अस्पताल की ऑक्सीजन की क्षमता अब 642 सिलेंडर प्रतिदिन तक हो जाएगी।
दोषी के खिलाफ होगी कार्रवाई
मीडिया से बातचीत के दौरान एक सवाल पर उन्होंने कहा कि पिछले दिनों अस्पताल से बच्चा चोरी क मामले में प्राचार्य से रिपोर्ट मांगी थी। इस प्रकरण में जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। कोविड को लेकर जहां पर भी मैन पावर की जरूरत होगी, वहां कार्मिक लिए जाएंगे।
आइसीयू बनने के बाद चिकित्सा होगी सुदृढ़
उन्होंने यहां पर बन रहे नवीन आइसीयू निर्माण कार्य को देखा। इस दौरान कलक्टर लोकबंधु, कॉलेज प्राचार्य डॉ. आरके आसेरी व अस्पताल अधीक्षक डॉ. बीएल मंसूरिया
आदि उनके साथ रहे।

Mahendra Trivedi Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned