बाड़मेर की कारेली नाड़ी को प्रशासनिक योजना का इन्तजार

पत्रिका अभियान- सुधरे बाढ़ाणा का श्रृंगार

By: Ratan Singh Dave

Published: 24 May 2018, 09:32 AM IST

बाड़मेर.शहर की कारेली नाडी को लेकर प्रशासनिक योजना का इंतजार है। एक दिन में हुए श्रमदान बाद नाडी की स्थिति तो सुधर गई लेकिन यहां बड़ी योजना के तहत कार्य करने की दरकार है। सार्वजनिक श्मशानघाट के पास का यह नैसर्गिक स्थान शहर की खूबसूरती को चार चांद लगा सकता है।
16 जनवरी जैसा एक दिन आए- 16 जनवरी को पत्रिका के अभियान कारेली नाडी का हों उद्धार के बाद प्रशासनिक अधिकारियों, भामाशाह व जनसमुदाय के सहयोग से इस नाडी का कायाकल्प कर दिया गया। एक दिन में 35000 टन कचरा निकालकर आजादी के बाद पहली बार इस नाडी की सफाई ने इसको निखार दिया।

अब बनना चाहिए प्लान- कारेली नाडी को लेकर अब प्लान की जरुरत है। यहां पर पार्क, वाटरपार्क, फव्वारे और अन्य सुविधाओं के साथ वाकिंग ट्रेक शुरू किया जाए तो आने वाले दिनों में शहर की बड़ी आबादी को इसका लाभ मिल सकता है। शहर में एक ओर सुन्दर पार्क विकसित किया जा सकता है।सार्वजनिक श्मशानघाट के पास का यह नैसर्गिक स्थान शहर की खूबसूरती को चार चांद लगा सकता है।
एमओयू करेंगे- इसको लेकर शीघ्र ही एमओयू किया जाएगा। साथ ही नाडी को गोद देकर इसका विकास करवाया जाएगा। कारेली नाडी शहर के लिए अच्छा स्थान बने यह प्राथमिकता में है।- शिव प्रसाद मदन नकाते, जिला कलक्टर

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका मानदेय सेवा ने पृथक

बालोतरा. बाल विकास परियोजना कल्याणपुर के अंतर्गत मंडली सेक्टर में कार्यरत दो आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व एक सहायिका को राजकार्य में लापरवाही व केन्द्र पर उपस्थिति नहीं देने पर सीडीपीओ ने मानदेय सेवा से पृथक करने के आदेश जारी किए। सीडीपीओ केके शर्मा ने बताया कि आंगनबाड़ी केन्द्र पतासर प्रथम की कार्यकर्ता लिच्छू देवी, आंगनबाड़ी केन्द्र पतासर द्वितीय की कार्यकर्ता ललिता देवी व सहायिका विमला देवी ने राजकार्य में लापरवाही बरती व मई 2017 के बाद आंगनबाड़ी केन्द्र पर उपस्थिति नहीं दी। इस पर उन्हें मानदेय सेवा से पृथक किया गया।

Ratan Singh Dave
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned