scriptThe weather became a nightmare, the sowing of cumin was killed | मौसम बना जी का जंजाल, जीरा की बुवाई पर मार | Patrika News

मौसम बना जी का जंजाल, जीरा की बुवाई पर मार

- थार में इस बार जीरे की बुवाई कम

- मौसम की मार और बाजार भाव के चलते किसानों की रुचि हुई कम

बाड़मेर

Published: December 03, 2021 02:13:15 am

बाड़मेर. इस बार बाड़मेर के जीरे की सोंधी खुशबू कम महकेगी क्योंकि मौसम की मार और बाजार भाव में कमी ने किसानों की रुचि कम कर दी है। एेसे में जीरे की बुवाई लक्ष्य के मुकाबले कम हुई है। इसका असर पैदावार पर पड़ेगा तो बाजार में भी बाड़मेर का जीरा कम उपलब्ध होगा। वहीं, मौसम के चलते इस बार रबी की बुवाई भी लक्ष्य के मुकाबले नब्बे फीसदी ही हुई है।
मौसम बना जी का जंजाल, जीरा की बुवाई पर मार
मौसम बना जी का जंजाल, जीरा की बुवाई पर मार
सीमावर्ती जिला बाड़मेर जीरा उत्पादक के रूप में अपनी विशेष पहचान रखता है। यहां रबी की बुवाई में २ लाख १५ हजार हैक्टेयर में हर साल जीरा बोया जाता है। करीब आठ लाख क्ंिवटल जीरा होता है जिससे किसानों को नौ अरब रुपए मिलते हैं। एेसे में एक तरफ से जीरा थार में खुशहाली लेकर आता है लेकिन इस बार जीरे की उपज पिछले सालों के मुकाबले कम होगी। क्योंकि मौसम में बार-बार परिर्वतन, तेज सर्दी नहीं पडऩे पर अक्टूबर,नवम्बर में जीरे की बुवाई कम ही हुई है। वहीं बाद में भी किसानों ने जीरे की जगह सरसों व अन्य फसलों की बुवाई में रुचि दिखाई जिस पर लक्ष्य से जीरा कम बोया गया है। गौरतलब है कि इस बार जीरा की बुवाई का लक्ष्य २ लाख १५ हजार हैक्टेयर था जिसके मुकाबले २ दिसम्बर तक १ लाख ६६ हजार ७२ हैक्टेयर में ही जीरा बोया हुआ है। आगामी कुछ दिनों में बुवाई का सीजन खत्म हो जाएगा, जिस पर यह अनुमान है कि इस बार जीरा कम बोया जाएगा।
गर्मी के चलते घटी रुचि, भाव भी कम- जीरे के लिए सर्दी का मौसम उपयुक्त माना जाता है। विशेषकर बुवाई के बाद तेज सर्दी होने पर जीरा अंकुरित होता है, लेकिन इस बार अक्टूबर-नवम्बर में मौसम दोहरा नजर आया। दिन में गर्मी रही तो रात में भी अपेक्षाकृत कम सर्दी पड़ी जिस पर किसानों को जीरा बोना घाटे का सौदा लगा।
वहीं, बाजार में जीरे के दाम भी एक सौ बीस रुपए किलो तक आ गए है जबकि पूर्व में एक सौ साठ- सत्तर रुपए मिल रहे थे। इस पर किसानों ने जीरे में कम रुचि दिखाई। करीब दो अरब रुपए का जीरा इस बार कम होने का अंदेशा है। रबी की बुवाई भी प्रभावित- मौसम के चलते रबी की बुवाई भी प्रभावित हुई है। जिले को ३ लाख ४७ हजार हैक्टेयर में बुवाई का लक्ष्य मिला हुआ था जिसके मुकाबले ३ लाख १२ हजार ४८ हैक्टेयर में बुवाई अब तक हुई है जो कि लक्ष्य का करीब नब्बे फीसदी है।
कम बुवाई हुई- इस बार जीरे की बुवाई कम हुई है। मौसम की मार के साथ भावों में कमी इसका कारण है। दूसरी फसलों की बुवाई भी थोड़ी कम हो रही है।- डॉ. प्रदीप पगारिया, कृषि वैज्ञानिक केवीके गुड़ामालानी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.