big problem- बारिश से शहर की सड़कें गड्ढों में तब्दील

मुसीबत की राह: बारिश के कारण शहर की सड़कें हुई छलनी, हर जगह गड्ढे ही गड्ढे

 

By: tarunendra chauhan

Updated: 25 Sep 2020, 12:24 PM IST

बड़वानी. पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही बारिश के कारण शहर के मुख्य मार्ग पूरी तरह से छलनी हो चुके हैं। शहर के प्रमुख मार्गों के गड्ढों में तब्दील होने से राहगीरों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सड़कों की बदहाल हालत के कारण यहां कीचड़ भी पसर रहा है और बारिश के दौरान गड्ढों में पानी होने से वाहनों को निकालने में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। सड़कों में हुए गड्ढों के कारण दुर्घटनाओं का खतरा भी बना हुआ है। शहर के नवलपुरा, भीलटदेव मंदिर, अंजड़ नाका, ओलंपिक सर्कल व अन्य स्थानों पर सड़कों की बदहाल स्थिति से लोग परेशान हो रहे हैं।

24 घंटों में सबसे ज्यादा चाचरियापाटी में बारिश
पिछले छ: दिनों से अंचल में जारी बारिश का दौर गुरुवार को थमा। पिछले 24 घंटों में सर्वाधिक 79 मिलीमीटर वर्षा चाचरियापाटी में दर्ज हुई है। इस दौरान जिले में औसत रूप से 41.1 मिमी वर्षा हुई है। विगत 24 घंटे के दौरान जिले के 10 वर्षामापी केन्द्रों में से बड़वानी में 34 मिमी, पाटी में 28 मिमी, अंजड़ में 23 मिमी, ठीकरी में 49 मिमी, राजपुर में 32 मिमी, सेंधवा में 6 0 मिमी, चाचरियापाटी में 79 मिमी, वरला में 57 मिमी, पानसेमल में 26 मिमी, निवाली में 23 मिमी वर्षा हुई है। भू-अभिलेख कार्यालय से प्राप्त जानकारी अनुसार गुरुवार तक बड़वानी में 794 मिमी, पाटी में 770.5 मिमी, अंजड़ में 46 3.2 मिमी, ठीकरी में 6 76 .4 मिमी, राजपुर 76 5 मिमी, सेंधवा 1034 मिमी, चाचरियापाटी में 1000 मिमी, वरला में 799.3 मिमी बारिश हुई।

27 सितंबर तक हो सकती है बारिश
कृषि विज्ञान केंद्र की जिला कृषि मौसम इकाई के अनुसार 23 से 27 सितंबर 2020 तक मौसम में घने बादल रहने की संभावना जताई है। वहीं अधिकतम तापमान 32 से 33 डिसे तो न्यूनतम तापमान 22 से 24 डिसे के बीच रहने का अनुमान जताया है। इस दौरान 10.2 से 19.8 किलोमीटर प्रति घंटे से उत्तरी पश्चिमी हवा चलने की संभावना जताई है। वैज्ञानिकों ने बताया कि आगामी 5 दिनों में जिले में वर्षा होने की संभावना है। वैज्ञानिकों ने किसानों से खेतों से जल निकासी की व्यवस्था करने की सलाह दी है। इधर शहर सहित अंचल में पिछले दिनों से जारी जोरदार बारिश के बीच नर्मदा का जलस्तर कम होते जा रहा है। सरदार सरोवर बांध परियोजना के गेट खोलने से नर्मदा तट पर जमा होने वाला बैक वॉटर अब उतरने लगा है।

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned