युवा वर्ग को निराशा में जाने से रोकेगा आनन्दम् प्रोग्राम

बीए प्रथम वर्ष के नियमित विद्यार्थियों के लिए कॉलेज में ऑनलाइन आनन्दम् परियोजना की वेबीनार का आयोजन

By: Gourishankar Jodha

Published: 14 Jan 2021, 03:24 PM IST

दूदू। कस्बे में स्थित राजकीय महाविद्यालय में बुधवार को बीए प्रथम वर्ष के नियमित विद्यार्थियों के लिए आनन्दम परियोजना पर एक वेबीनार आयोजित की गई। जिसकी अध्यक्षता महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ. शिप्रा वर्मा ने की।
इस अवसर पर उन्होंने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन के माध्यम से विद्यार्थियों को बताया कि राज्य सरकार ने बीए प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों के लिए सामाजिक सरोकार भाईचारा सेवा कार्य आदि व्यक्तिगत स्तर पर तथा सामूहिक स्तर पर किए गए कार्यों को आनन्दम विषय के अंतर्गत सम्मिलित किया गया है।

सेवा भाव से जुडऩे के लिए प्रेरित किया
डॉ. यदुवीरसिंह ने मुख्य वक्ता के रूप में आनन्दम् परियोजना की मूल अवधारणा को प्रस्तुत करते हुए सामाजिक सरोकारों से दूर होते युवा वर्ग को आनन्दम् परियोजना के माध्यम से पुन: सामाजिक मूल्यों व सरोकार तथा सेवा भाव से जुडऩे के लिए प्रेरित किया। आनन्दम पाठ्यक्रम के मूल बिन्दुओं की जानकारी प्रदान की।

प्रोग्राम मील का पत्थर साबित होगा
डॉ. शरद निमावत ने कहा कि युवा वर्ग को निराशा व मोह भंग की स्थिति में जाने से रोकने के लिए आनन्दम प्रोग्राम मील का पत्थर साबित हो सकता है। संयोजक डॉ. संदीपन कुमार आर्य ने पाप और पुण्य को आनन्दम के संदर्भ में व्याख्यायित किया। इस ऑनलाइन कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने अति उत्साह से अपनी सहभागिता प्रदान की।

Gourishankar Jodha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned