सरकार से गुहार, सीएचसी में कराए मोर्चरी का निर्माण, बरामदे में किया जाता है पोस्टमार्टम

चिकित्सा विभाग के दावे खोखले, जयपुर जिले के अमरसर सीएससी में नहीं मोर्चरी, लोगों ने सरकार से की मोर्चरी निर्माण की गुहार

शाहपुरा. जयपुर जिले के अमरसर पुलिस थाना इलाके के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अमरसर मोर्चरी नहीं है. ऐसे में शव का पोस्टमार्टम अस्पताल में प्रसव कक्ष के पास बरामदे में किया जाता है। खुले में शवों का पोस्टमार्टम किए जाने से मरीज व प्रसूता भयभीत रहते हैं। स्थानीय लोगों ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों से मोर्चरी निर्माण कि कई बार गुहार की है लेकिन अभी तक किसी ने भी नहीं सुनी। अमृतसर पुलिस थाना इलाके में 108 एंबुलेंस सेवा भी उपलब्ध नहीं है ऐसे में दुर्घटना में घायल मरीज एवं अन्य मरीजों को निजी एवं किराए के वाहनों में अस्पताल पहुंचाया जाता है।

ग्रामीणों ने शनिवार को पूर्व जिला पार्षद जेपी मान के नेतृत्व में राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मोर्चरी व क्षेत्र में 108 एंबुलेंस की सेवा उपलब्ध कराने की मांग को लेकर डीएसपी राजेश मलिक को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भी सौंपा। ज्ञापन में सीएचसी में मोर्चरी का निर्माण कराने व क्षेत्र में 108 एंबुलेंस उपलब्ध कराने की मांग की। लोगों ने बताया कि राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मोर्चरी नहीं होने के चलते बरामदे में पोस्टमार्टम किया जाता है। अस्पताल में ऑपरेशन कक्ष के पास बरामदे में खुले में पोस्टमार्टम करने से प्रसूता व अन्य मरीज भयभीत रहते हैं। उन्होंने बताया कि मोर्चरी निर्माण की मांग को लेकर कई बार चिकित्सा विभाग के आला अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों से गुहार की जा चुकी है लेकिन सुनवाई नहीं हुई।

Kailash Chand Barala
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned