scriptRatna Kumari Shahpura became the voice for the deprived women | अधिकारों से वंचित महिलाओं के लिए आवाज बनीं रत्नाकुमारी | Patrika News

अधिकारों से वंचित महिलाओं के लिए आवाज बनीं रत्नाकुमारी

महिलाओं को सशक्त बनाने का अर्थ है, उन्हें इस पुरुष प्रधान संस्कृति में अपने आत्म-मूल्य का अहसास करने के लिए बढ़ावा देना। इसका अर्थ महिलाओं को अपनी कमजोरियों से वाकिफ कराना और खुद के लिए खड़े होने की क्षमता तय करने में बढ़ावा देना और उनकी मदद करना भी है...

बस्सी

Published: February 18, 2022 10:43:15 pm

जयपुर। महिलाओं को सशक्त बनाने का अर्थ है, उन्हें इस पुरुष प्रधान संस्कृति में अपने आत्म-मूल्य का अहसास करने के लिए बढ़ावा देना। इसका अर्थ महिलाओं को अपनी कमजोरियों से वाकिफ कराना और खुद के लिए खड़े होने की क्षमता तय करने में बढ़ावा देना और उनकी मदद करना भी है। समाजसेविका रानी रत्ना कुमारी (Ratna Kumari Shahpura) ने बताया कि महिला सशक्तिकरण का अर्थ जाति और पंथ के बावजूद सभी क्षेत्रों में समान अवसर की शक्ति देना भी है। महिला सशक्तिकरण, महिलाओं को शक्तिशाली बनाने के लिए माना जाता है, ताकि वे अपने लिए सही और गलत चीजों का फैसला कर सकें।
अधिकारों से वंचित महिलाओं के लिए आवाज बनीं रत्नाकुमारी
अधिकारों से वंचित महिलाओं के लिए आवाज बनीं रत्नाकुमारी
अपने अधिकारों से वंचित महिलाओं के लिए किया काम
रत्नाकुमारी (Ratna Kumari Shahpura) ने ऐसी महिलाओं के लिए विशेष रूप से काम किया, जो अपने अधिकारों से वंचित रही हैं। अच्छी तरह से शिक्षित राजपूत परिवार की पृष्ठभूमि से ताल्लुक रखने वाली रानी रत्ना कुमारी ने जम्मू विश्वविद्यालय, जम्मू से वाणिज्य में स्नातकोत्तर (पोस्ट ग्रेजुएट) की पढ़ाई पूरी की। वह कौशल विकास और शहर में महिलाओं के लिए विभिन्न रोजगार के अवसर प्रदान करके महिला सशक्तिकरण कार्यक्रमों में शामिल रही हैं। उनकी कार्य संस्कृति में बेहतर शिक्षा के साथ लड़कियों की मदद करना, वहां रहने वाले लोगों के उत्थान के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में काम करना शामिल है।
ट्रस्ट से महिलाओं तक पहुंचाई मदद
रत्ना कुमारी (Ratna Kumari Shahpura) ने वर्ष 2016 में वंचित महिलाओं और समुदायों के लिए एक ट्रस्ट 'रानी रत्न कुमारी फाउंडेशन' भी स्थापित किया। ट्रस्ट के माध्यम से उन्होंने विराटनगर में कई नि:शुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर और रक्तदान शिविर के आयोजन अब तक कराए। महिलाओं को सशक्त बनाने के साथ वह यह भी सुनिश्चित करती हैं कि महिलाएं विभिन्न गांवों में 'सखी मंडल' (Sakhi mandal) नामक स्वयं सहायता समूह जैसे रोजगारों की विभिन्न पहल करें। उन्होंने गर्भवती महिला, बाल स्वास्थ्य, कुपोषण उन्मूलन और कल्याण के लिए कुशलता से मार्गदर्शन शिविर आयोजित किए। इसी के साथ वंचित बच्चों के लिए शिक्षण सप्ताह का आयोजन भी उनके द्वारा करवाया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद-श्रृंगार गौरी विवाद : वाराणसी कोर्ट की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट की रोक, शुक्रवार को होगी सुनवाईअमृतसर से ISI के दो जासूस गिरफ्तार, पाकिस्तान भेजते थे भारतीय सेना से जुड़ी खुफिया जानकारीहरियाणा के झज्जर में फुटपाथ पर सो रहे मजदूरों को ट्रक ने कुचला, 3 की मौत 11 घायलभाजपा राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक : आज जयपुर आएंगे राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, एयरपोर्ट से कूकस तक 75 स्वागत द्वार तैयारBharatpur Road Accident: भीषण सड़क हादसे में 5 लोगों की मौत, मचा हाहाकारLPG Price Hike Today: घरेलू गैस की कीमत 3.50 रुपए बढ़े, कमर्शियल सिलेंडर पर 8 रुपए का इजाफाIPL के इतिहास में पहली बार होगा ऐसा, इन टीमों के बिना खेला जाएगा प्लेऑफपोर्नोग्राफी मामले में व्यवसायी राज कुंद्रा के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का भी मामला दर्ज
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.