ऐसा क्या हुआ कि महिला डॉक्टर रोने लगी

कॉल डयूटी को लेकर उपजा क्लेश तो रोने लगी एक डॉक्टर...?अमृतकौर चिकित्सालय : अस्पताल प्रशासन ने इस तरह की शिकायतें सामने आने के बाद व्यवस्थाओं में सुधार के लिए की रायशुमारी, कार्यस्थल में फेरबदल को लेकर की चर्चा, कुछ किए बदलाव

By: Bhagwat

Published: 15 Jul 2020, 05:04 PM IST

ब्यावर. अमृतकौर चिकित्सालय की मदर चाइल्ड विंग में ओटी में किसी बात को लेकर दो चिकित्सकों में कहासूनी हो गई है। इससे एक चिकित्सक वहां पर रोने लगी। यह मामला अस्पताल प्रशासन के पास भी पहुंचा। इसके बाद व्यवस्था में सुधार करने की कवायद शुरु हो गई है। इस मामले को लेकर अस्पताल में चर्चा रही। जानकारी अनुसार शनिवार को एक गायनोकालॉजिस्ट की ओटी व लेबर रुम की कॉल लगाई गई। जिस महिला चिकित्सक की डयूटी लगाई गई। वों वहां पर पहुंची तो एक अन्य गायनोकालॉजिस्ट को इस कॉल लगाने को लेकर आपस में कहासूनी हो गई। इस आपसी कहासूनी के चलते एक महिला डॉक्टर रोने लगी। यह मामला सामने आने के बाद चिकित्सालय प्रशासन ने व्यवस्था में सुधार को लेकर प्रभारियों से रायशुमारी की है। गायनिक शाखा में लम्बे समय से किसी ने किसी प्रकार की अव्यवस्था बनी रहती है। जच्चा व बच्चा को अस्पताल से छुट्टी देने के बाद भी समय पर एम्बूलेंस की व्यवस्था नहीं होने से उन्हें उमस व गर्मी में परेशान होना पड़ता है। इसके बावजूद व्यवस्था में सुधार नहीं हो पा रहा है। लम्बे समय से जमे कर्मचारियों में किया फेरबदलमदर एंड चाइल्ड विंग के अंदर व्यवस्थाओं को बेहतर करने के लिए कर्मचारियों के कार्यस्थल में बदलाव किया गया है। लम्बे समय से आपस में काम को लेकर अस्पताल प्रशासन के सामने शिकायतें आ रही थी। विभागों के प्रभारियों को विचार विमर्श करने के बाद अस्पताल प्रशासन ने काम में बदलाव किया है। कर्मचारियों को अलग-अलग जिम्मेदारियां दी है। इसी प्रकार लेबर रूम तथा एमसीएच की ओटी में भी उच्च अधिकारियों के निर्देश के अनुसार कॉल में फेरबदल करने पर विचार किया जा रहा है। अस्पताल में चार गायनोकालॉजिस्ट पदस्थापित हैं। गर्भवती व प्रसूताओं को असुविधा होने के साथ ही चिकित्सकों पर भी कार्यभार के दबाव को देखते हुए यह कदम उठाया गया है। ओ टी तथा लेबर रूम की कॉल में भी व्यवस्थाओं में सुधार किया जा रहा है।

इनका कहना है...

मदर चाइल्ड विंग में आ रही शिकायतों के निवारण के लिए व्यवस्थाओं को बेहतर करने का प्रयास कर रहे है। इसके लिए प्रभारियों से विचार-विमर्श कर काम में बदलाव कर रहे है। ताकि व्यवस्था बेहतर हो सके। चिकित्सकों में विवाद की कोई जानकारी नहीं है।

-डॉ. आलोक श्रीवास्तव, अमृतकौर चिकित्सालय

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned