खुशखबरी, किसानों को रुपए निकालने के लिए बैंक जाने की जरूरत नहीं, समितियों में ही मिलेगा रुपया

अब सहकारी समितियों में माइक्रो एटीएम से कर सकेंगे लेन-देन, जिला सहकारी बैंक के 1 लाख 10 हजार 160 खाताधारकों को मिलेगा लाभ

By: Satya Narayan Shukla

Published: 13 Mar 2018, 07:30 AM IST

बेमेतरा . किसानों को अपने खाते से रुपए निकालने के लिए अब 1 अप्रैल से बैंकों में लंबी कतार लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अब किसानों को उनकी ही सेवा सहकारी समिति में यह सुविधा मिल सकेगी। जहां किसान सोसायटी में दो हजार रुपए तक निकाल सकेंगे। इसके लिए जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक की सभी 54 सेवा समितियों को माइक्रो एटीएम देगा। जिससे किसानों की दिक्कतें दूर हो सकेगी। किसानों को सुविधा देने के मकसद से नई व्यवस्था शुरू की जा रही है।
तीन से पांच गांवों के बीच संचालित है सेवा सहकारी समितियां
ज्ञात हो कि जिले में तीन से पांच गांवों के बीच सेवा सहकारी समितियां संचालित है। जिन किसानों का सहकारी बैंक में खाता है, उन्हें इन समितियों से खाद और बीज दिया जा रहा है। लेकिन नगद रकम के लिए उन्हें सहकारी बैंक की शाखाओं में जाना पड़ता है। समितियों पास होती है, लेकिन बैंक दूर होते हैं। कम रुपए की जरूरत होने पर या तो उन्हें उधार लेना पड़ता है या फिर बैंक जाकर रुपए निकालने के लिए बैंकों में लाइन लगाना पड़ता है, पर अब इस समस्या से किसानों को निजात मिल सकेगी।
दो हजार रुपए तक निकाल सकेंगे किसान
इस माइक्रो एटीएम के लिए किसानों को रुपे कार्ड दिया जाएगा। इस माइक्रो एटीएम से किसान एक दिन में दो हजार रुपए तक कैश निकाल सकेंगे। प्रक्रिया पूरी होने के बाद खाताधारक किसानों का रूपे कार्ड काम करेगा। सहकारी बैंक के अधिकारियों ने बताया कि शासन ने किसानों के हित में नई व्यवस्था लागू करने का निर्णय लिया है। इस व्यवस्था से सहकारी बैंक के किसानों को फायदा होगा। सहकारी बैंक की विभिन्न शाखाओं को मिलाकर जिले में कुल 1 लाख 10 हजार 160 खाताधारक हैं, जिसको इसका लाभ मिलेगा।

दुर्ग जिला सहकारी बैंक में समिति प्रबंधकों को दिया गया प्रशिक्षण
जिला सहकारी बैंक नोडल अधिकारी राधेश्याम कश्यप ने बताया कि जिले के सभी समिति प्रबंधकों को फरवरी में दुर्ग जिला सहकारी केन्द्रींय बैंक में माइक्रो एटीएम को चलाने के लिए प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षण के बाद जिले के सभी सेवा समितियों में माइक्रो एटीएम की मशीन दी जा चुकी है। नए वित्तीय वर्ष से किसानों को सुविधा मिलना शुरू हो जाएगा। उन्होंने बताया कि इस योजना से सभी किसानों को लाभ होगा, लेकिन खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्रों के उन किसानों को सुविधाएं मिलेगी जो रुपए निकालने के लिए जिला मुख्यालय में 15- 20 किमी दूर से आते थे और घंटों इंतजार करते थे।
माइक्रो एटीएम में मिलेगी ये सुविधाएं
दुकानदार के पास कार्ड स्वाइप करने वाली मशीन होती है। जिसे प्वाइंट ऑफ सेल कहा जाता है। इसमें बायोमैट्रिक आर्थेन्टिकेशन के लिए फिंगरप्रिंट स्कैन किया जाता है। आथेन्टिकेशन सफल होने पर एक रसीद मिलती है और कर्मचारी रुपए देता है। ट्रांजेक्शन के बाद खाताधारक के मोबाइल में मैसेज के जरिए इसकी जानकारी मिल जाती है। यह बैंक के अलावा दुकानदारों के लिए भी सुविधा जनक है। माइक्रो एटीएम के जरिए किसान न केवल कैश निकाल सकेंगे। बल्कि राशि भी जमा कर सकेंगे। साथ ही फंड ट्रांसफर भी किए जा सकते हैं। इसके साथ ही अकांउट बैलेंस की जानकारी किसान ले सकेंगे।
जिले के 54 समितियों में अप्रैल से मिलेगी सुविधा
जिला सहकारी बैंक के नोडल अधिकारी राधेश्याम कश्यप ने बताया कि किसानों को सुविधा दिलाने के लिए माइक्रो एटीएम की शुरूआत की जा रही है। दूरस्थ गांवों से रुपए निकालने के लिए जिला मुख्यालय के बैंकों में आने वाले ग्रामीण क्षेत्र के किसानों को फायदा होगा। इसके लिए जिले के 54 सोसायटियों में माइक्रो एटीएम बांटी जा चुकी है। एक अप्रैल से किसानों को सुविधा मिलने लगेगी।

Show More
Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned