सरकारी जमीनों पर हो रहे अतिक्रमण, छिपा है अंदरुनी खेल

- नोटिसों के बाद भी कब्जा बरकरार

By: Meghshyam Parashar

Updated: 06 Jul 2020, 04:56 PM IST

भरतपुर/पहाड़ी. मेवात क्षेत्र में सरकारी विद्यालय, अस्पताल व पोखर आदि पर अतिक्रमण करना सामान्य बात होकर रह गई है। प्रशासन की ओर से अतिक्रमणकारियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने से इनके हौसले बुलंद बने हुए हैं। अतिक्रमणकारी सरकारी नोटिसों को दर किनार कर जमीन पर कब्जा किए हुए हैं।
कैथवाड़ा ग्राम पंचायत में पीएचसी की जमीन पर कई साल से लोगों ने लकड़ी, ईंधन व पत्थर आदि पटककर कब्जा जमा रखा है। कुछ हिस्से पर पक्की दीवार भी बना दी है। मामले में तहसील से अतिक्रमण हटाने के लिए अतिक्रमणी को नोटिस जारी किए और पुलिस में शिकायत हुई। लेकिन उसके बाद भी अतिक्रमण जस की तस बना हुआ है। इसी तरह कठोल ग्र्राम पंचायत के थलचाना गांव में राजकीय उच्च प्राथमिक विधालय के खेल मैदान में हाल में एक किसान ने अपनी जमीन होने के दावा कर उसमें दीवार बनाना शुरू कर दिया है। सूचना पर संस्था प्रधान व हलका पटवारी ने मौके पर पहुंच कार्य को रुकवा कर पाबंद किया। इसी तरह से ग्र्राम पचायतों की पोखरो की पाल या उसके अन्दर अवैध रूप से बोरिंग कर अतिक्रमण कर रखे हंै। जिनको खाली कराने में ग्र्राम पचायत अनदेखी बरत रही है। वहीं पहाड़ी मेंं कोली धर्मशाला के सामने पीडब्लूडी की जगह पर अतिक्रमण के लिए पत्थर डाले जा रहे हैं। इसके बाद भी कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा।


- कैथवाड़ा पीएचसी में अतिक्रमण को लेकर 10-15 दिन पूर्व नोटिस जारी किए गए थे। लेकिन अभी अतिक्रमण नहीं हटाया गया है।
- रामकुमार, तहसीलदार पहाड़ी

- तीन चार माह पहले उच्चाधिकारी व स्थानीय पुलिस को अतिक्रमण हटवाने के लिए लिखित में पत्र दिया गया था। पुलिस ने देखकर चली गई, कोई कार्रवाई नहीं हुई।
- डॉ.विकास शर्मा, पीएससी प्रभारी कैथवाड़ा

Meghshyam Parashar Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned