भाजपा अध्यक्ष उसेंडी का CM भूपेश पर पलटवार, कहा गांधी के नाम का दुरूपयोग करना बंद करें कांग्रेसी, करें शराब बंदी की घोषणा

भाजपा अध्यक्ष उसेंडी का CM भूपेश पर पलटवार, कहा गांधी के नाम का दुरूपयोग करना बंद करें कांग्रेसी, करें शराब बंदी की घोषणा
भाजपा अध्यक्ष उसेंडी का CM भूपेश पर पलटवार, कहा गांधी के नाम का दुरूपयोग करना बंद करें कांग्रेसी, करें शराब बंदी की घोषणा

Dakshi Sahu | Updated: 12 Oct 2019, 02:53:49 PM (IST) Bhilai, Durg, Chhattisgarh, India

कांग्रेस के गांधी विचार यात्रा और उनके आदर्शों को लेकर सीएम भूपेश बघेल के बयान पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने पलटवार किया है।

दुर्ग. कांग्रेस (chhattisgarh congress) के गांधी विचार यात्रा (Gandhi Vichar yatra) और उनके आदर्शों को लेकर सीएम भूपेश बघेल के बयान पर भाजपा (CG BJP) के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने पलटवार किया है। उनका कहना है कि कांग्रेस नेताओं ने अब तक केवल गांधी जी के नाम का दुरूपयोग किया है। यदि वे उनके आदर्शों को लेकर गंभीर होते तो उनकी कही बातों पर अमल करते। आजादी के बाद गांधीजी ने कांग्रेस को भंग करने की सलाह दी थी, अब तक ऐसा नहीं किया गया। 150वीं जयंती पर सरकार के लिए उचित मौका था, लेकिन घोषणा के बाद भी शराब बंदी क्यों नहीं की जा रही है। उसेंडी संभाग स्तरीय बैठक के सिलसिले में यहां आए थे। पत्रिका से उनकी बातचीत के प्रमुख अंश ।

चित्रकूट में चुनाव हम जीतेंगे
सवाल - राम की तरह गांधी जी की भी भाजपा पर राजनीतिक इस्तेमाल का आरोप कांग्रेस की ओर से लगाया जा रहा है, यह कितना सही है?
जवाब - दरअसल गांधी जी के विचारों से उनका ही कोई नाता नहीं है। ऐसा होता तो केंद्र में अधिकतर समय उनका शासन रहा। उनके स्वच्छता व ओडीएफ जैसे संदेश पहले ही अपनाकर काफी कुछ किया जा सकता था। कांग्रेस ने केवल उनके नाम का दुरूपयोग किया है। राज्य सरकार सही में उनके विचारों पर चल रही है तो शरीब बंदी क्यों नहीं किया जा रहा।

सवाल - शराब बंदी भले ही नहीं हुआ हो, लेकिन कामकाज को लेकर सरकार की सराहना तो हो रही है?
जवाब - केवल भ्रम फैलाया जा रहा है। सरकार का 9 माह का कामकाज बेहद निराशा वाला रहा है। विकास की केवल बात हो रही है, कहीं काम दिख नहीं रहा। उल्टे पूर्वसरकार ने विकास के लिए जो राशि स्वीकृत कर जारी कर दिए थे, उन्हें भी वापस मंगाया जा रहा है।

सवाल - इसके बाद भी आपको दंतेवाड़ा उपचुनाव में सीट गंवानी पड़ी, सरकार विफल है तो यह जीत कैसे मिली?
जवाब - दंतेवाड़ा चुनाव में प्रशासन का खुला दुरुपयोग किया गया। इसके चलते जिन गांवों में 5 से 10 वोट पड़ते थे, वहां इस बार 70 से 80 फीसदी वोट पड़ गए। सीएम के रिश्तेदार को वहां कलक्टर बनाया गया है। उनके संरक्षण में यह सब किया गया। इसकी शिकायत चुनाव आयोग से की गई है।
इसके विपरीत हमारे नेताओं को सुरक्षा नहीं दिया गया, ताकि वे चुनाव प्रचार नहीं कर सके। दंतेवाड़ा की हार का बदला चित्रकोट में लिया जाएगा।

सवाल - विधानसभा में पराजय मिली थी, अब नगरीय निकाय में किस तरह के परिणाम की उम्मीद कर रहे हैं?
जवाब - विधानसभा के बाद लोकसभा में अच्छे परिणाम आए थे। इससे हमारे कार्यकर्ता रिचार्ज हो चुके हैं। नगरीय निकाय चुनाव की तैयारी चल रही है। संभाग स्तर पर बैठकों का दौर चल रहा है। नगरीय निकाय चुनाव में भी निश्चित रूप से परिणाम बेहतर रहेगा।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned