खुश खबरी: निगम बेदखली अभियान से प्रभावितों को मिलेंगी दुकानें, टाउन वेडिंग कमेटी का निर्णय, पढ़ें खबर

Satya Narayan Shukla

Publish: Apr, 17 2018 10:50:02 PM (IST)

Bhilai, Chhattisgarh, India
खुश खबरी: निगम बेदखली अभियान से प्रभावितों को मिलेंगी दुकानें, टाउन वेडिंग कमेटी का निर्णय, पढ़ें खबर

बाजार क्षेत्र से बेदखल किए गए दुकानदारों को नए वेंडिंग जोन बनाकर 500 रुपए मासिक किराए पर दुकानें दी जाएंगी।

दुर्ग . बाजार क्षेत्र से बेदखल किए गए दुकानदारों को नए वेंडिंग जोन बनाकर 500 रुपए मासिक किराए पर दुकानें दी जाएंगी। नगर निगम के टाउन वेंडिंग कमेटी ने इसके लिए नए वेडिंग जोन तय किए हैं। इसके अलावा अन्य इलाकों अथवा नॉन वेंडिंग जोन पर दुकान लगाए जाने पर दुकानदारों से पांच सौ के दो हजार रुपए तक जुर्माना भी वसूल किया जाएगा।

मंगलवार को डॉटा सेंटर में टाउन वेंडिंग कमेटी की बैठक

महापौर चंद्रिका चंद्राकर की अध्यक्षता में मंगलवार को डॉटा सेंटर में टाउन वेंडिंग कमेटी की बैठक हुई। इसमें नए वेंडिंग जोन, नॉन वेंडिंग जोन और दुकादारों के व्यवस्थापन पर चर्चा हुई। बैठक में बाजार क्षेत्रों में व्यवसाय का समय भी तय किया गया। बैठक में सीएसपी भोजराम पटेल, निगम कमिश्नर एसके सुन्दरानी, राजस्व प्रभारी शिवेन्द्र परिहार, राजस्व अधिकारी आरएस आजमानी, कमेटी के सदस्य पार्षद आशीष दुबे, नजहत परवीन, पीबी सक्सेना, व्यापारी संघ के दिलीप मारोटी, चेम्बर ऑफ कामर्स से अशोक राठी, व्यापारी दुर्गेश सोनी, किशनचंद माखीजा, सुन्दरलाल गुप्ता, लायसेंस प्रभारी अधिकारी चंद्रकांत शर्मा, आजीविका मिशन के मुक्तेश कान्हा मौजूद थे।

यहां बनेंगे नए वेंडिंग जोन
बैठक में जिला उद्योग कार्यालय जीई रोड के किनारे, महिला समृद्धि बाजार गौरव पथ, साइंस कालेज के सामने, सतरुपा शीतला बाजार के समीप खाली जगह, सिंधिया नगर, शक्ति नगर साप्ताहिक बाजार क्षेत्र, ओम परिसर के पास, गंजपारा स्टेट बैंक के पीछे खाली जगह को वेडिंग जोन के रुप में विकसित करने का निर्णय किया गया।

ये होंगे नॉन वेंडिंग जोन

बैठक में व्यवसाय के लिए प्रतिबंधित नॉन वेंडिंग जोन भी चिन्हित किए गए इसमें कलक्टरोरेट के आसपास के इलाके, हास्पीटल क्षेत्र, गौरव पथ, संपूर्ण इंदिरा मार्केट, सर्किंट हाउस से पुलगांव चौक तक जीई रोड शामिल हैं। यहां दुकान पाए जाने पर जुर्माना लगाया जाएगा।

बेदखली से पीडि़त कुंभकार महिला सदमे में
15 दिनों पहले निगम प्रशासन ने सड़क पर अतिक्रमण कर मिट्टी से बने बर्तन बेचने वालों को बेदखल कर दिया। वर्तमान में स्थिति ऐसी है कि परिवार चलाने में तकलीफ हो रही है। कुम्हार समाज का कहना है कि इस व्यावसाय से उर्मिला बाई 60 साल से जुड़ी है। बेदखली अभियान में उसका सब कुछ उजड़ गया। निगम से भी उसे न्याय नहीं मिला। यही कारण है कि उमिला पिछले सप्ताह भर से सदमे में चली गई है। उसकी हालत बेहद नाजुक है।

 

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

1
Ad Block is Banned