कोरोना वैक्सीन के चोरी होने का खतरा, इन सेंटरों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं

वैक्सीन जिस फ्रीजर में उसमें लगाया जा रहा ताला, अब ली जाएगी पुलिस की मदद.

By: Abdul Salam

Published: 21 Feb 2021, 09:30 PM IST

भिलाई. जिला में इस समय अधिक से अधिक वैक्सीनेशन केंद्रों में कोरोना की वैक्सीन पहुंच चुकी है। जिन सेंटरों में दी गई है, वहां के जिस कक्ष में वैक्सीन रखी गई है, उसे सुरक्षित रखने के लिए माकूल इंतजाम नहीं है। वैक्सीन को जिस स्थान पर रखा गया है। वहां पर सुरक्षा कर्मी या पुलिस की तैनाती नहीं की गई है। शहरी परिवार कल्याण केंद्र, सुपेला की घटना के बाद कोविडशील्ड वैक्सीन की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। विभाग ने वैक्सीन की सुरक्षा को लेकर पुलिस से सहयोग मांगा है।

फ्रीजर में लगाया जा रहा मोटी चैन के साथ ताला
वैक्सीन जिस फ्रीजर में रखी जा रही है, उसमें ताला जड़ा जा रहा है। जिससे उसके साथ किसी तरह की छेड़छाड़ न हो। वैक्सीन जिस सिस्टर के जिम्मे है उनके पास ही इसकी चाबी रहती है। यह सच है कि चोर अगर भीतर तक चले आए तो यह ताला तोडऩा उनके लिए कोई बड़ी बात नहीं है। चोर वहां तक पहुंच ना पाए, इंतजाम इस तरह से करना होगा।

एक सप्ताह की वैक्सीन हर केंद्र में
शहरी परिवार केंद्र, सुपेला के जिस कक्ष में फ्रीजर में कोरोना वैक्सीन रखा हुआ था, उसकी ही खिड़की का कांच चोरों ने तोड़ा। इसके बाद आलमारी को गिरा दिया। इस फ्रीजर में कम से कम एक सप्ताह की वैक्सीन मौजूद रहती है। इस तरह से जहां एक दिन में दो सौ लाभार्थियों को टीका लगाया जाना है, वहां एक हजार डोज और जहां एक सौ लाभार्थियों को टीका लगाया जाना है वहां पर पांच सौ डोज रखने का इंतजाम किया गया है। इन वैक्सीनों की सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतजाम नजर नहीं आ रहे हैं।

खतरे में वैक्सीन
जिला के करीब सारे सेंटरों में ही कोरोना वैक्सीन को एक कक्ष के भीतर रखे फ्रीजर में रखा जा रहा है। वैक्सीन की हिफाजत को लेकर कोई अलग से इंतजाम नहीं किए गए हैं। अब चाहे वह सुपेला, बैकुंठधाम हो या भिलाई-तीन अस्पताल हर जगह इंतजाम एक जैसे ही हैं। शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, बैकुंठधाम में जिस वक्त कोरोना का वैक्सीन लगाया जा रहा था, तब यहां के टूटे बाउंड्रीवाल की मरम्मत की गई और पीछे के बाउंड्रीवाल में लगे लोहे के गेट को लॉक कर दिया गया। जिसे चंद दिनों पहले ही असमाजिक तत्वों ने तोड़ दिया है। यहां असमाजिक तत्वों का डेरा हमेशा रहता है। अस्पताल के भीतर तक जाने के लिए पहले सिर्फ सामने वाला ही मार्ग था, अब पीछे से भी दीवार तोड़कर दरवाजा बना दिए हैं। जिससे असमाजिक तत्वों के लिए भीतर पहुंचना ज्यादा आसान हो गया है।

पुलिस करेगी हिफाजत
कोविडशीाल्ड वैक्सीन की हिफाजत पुलिस करेगी। जिस सेंटर में वैक्सीन मौजूद रहेगी उसकी जानकारी संबंधित थाना को दिया जाएगा। उस थाना के प्रभारी की जवाबदारी होगी कि वैक्सीन सुरक्षित रहे। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारियों ने सेंटरों के जिम्मेदारों को निर्देश दे दिया है।

वैक्सीन की सुरक्षा जरूरी
जिला टीकाकरण अधिकारी, दुर्ग, डॉक्टर सुदामा चंद्राकर ने बताया कि कोरोना वैक्सीन की सुरक्षा अहम है, सेंटरों के जिम्मेदारों से कहा गया है कि जिस-जिस क्षेत्र में हैं, वहां के संबंधित थानों को जानकारी दे दिया जाए। कोविडशील्ड वैक्सीन की हिजाफत की जिम्मेदारी पुलिस के हाथों में है।

COVID-19
Abdul Salam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned