बदलते मौसम ने भीलवाड़ा के लिए बढ़ाई चिन्ता

ठंडे माहौल में कोरोना वायरस का संक्रमण बढऩे का खतरा
तीन दिन से छाए है बादल, जिले भर में हुए थी बारिश

भीलवाड़ा .

Rain across the district भीलवाड़ा में तेजी से फेलते कोरोना वारयस संक्रमण को लेकर बदलते मौसम ने डाक्टरों व जिला प्रशासन के लिए चिन्ता बढ़ा दी है। इस मौसम में कोरोना वायरस के संक्रमण तेजी से फेलते है। डाक्टरों का कहना है कि अब भी हम नहीं चेते तो हालात और विकट हो सकते है। ऐसे में सभी को सावधानी रखनी होगी।
Rain across the district मौसम को लेकर जैसी संभावना जताई जा रही थी, बुधवार को वैसा ही हुआ। सुबह बादल छाए तो दोपहर साढ़े तीन बजे से तेज हवा चलने लगी, जिसकी रफ्तार 30 किलोमीटर तक पहुंच गई। इसके चलते जिले में बारिश भी हुई। इसी कारण अधिकतम तापमान दो डिग्री गिरा। गुरुवार को भी दिन में बादल छाए रहे कुछ स्थानों पर बारिश भी हुई। मौसम विभाग के अनुसार शुक्रवार को फिर से गर्मी असर दिखाना शुरू करेगी। बंगाल की खाड़ी में प्रति चक्रवात बनने की वजह से प्रदेश के अधिकांश जिलों में बादल छाए हुए हैं। बारिश भी इसी वजह से हो रही है।
संक्रमण की बहती हवा
मौसम ठंडा होने के बाद सवाल उठ रहा है कि इससे कोरोना वायरस और खतरनाक होगा या नहीं। ऐसे में डाक्टरों का कहना है कि ठंडा मौसम वायरस संक्रमण के लिए अनूकुल रहता है, लेकिन कोरोना के मामले में अभी कोई स्टडी नहीं है। एक-दो दिन मौसम ठंडा रहने से वायरस एक्टिव नहीं होता। यह एक्टिव हुआ भी तो 14 दिन बाद ही लक्षण नजर आएंगे। डाक्टरों का कहना है कि मौैसम कैसे भी रहे, लेकिन अपना व परिवार का ध्यान रखने के लिए घर से बाहर न निकले। डाक्टरों की टीम पूरी मुस्तैदी के साथ महात्मा गांधी चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड में कार्य कर रही है।
बदलता मौसम चिन्ता जनक
तीन-चार दिन से लगातार मौसम बदल रहा है। यह कोरोना वायरस संक्रमण के लिए चिन्ता जनक है। कोरोना को रोकने के लिए ताममान ३७ डिग्री से अधिक चाहिए जबकि अभी तापमान कम हो रहा है। ऐसे में कोरोना के साथ अन्य मौसमी बीमारी भी हो सकती है। ऐसे में सभी को सावधान होने की जरूरत है।
डॉ. देवकिशन सरगरा, उपनियंत्रक एमजीएच

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned