एमजीएच में कुल्हों की बदली बॉल

अब सामान्य रूप से चल फिर सकेगा व्यक्ति
उपलब्धि : करीब डेढ़ घंटे चली सर्जरी

भीलवाड़ा।
MGH मेडिकल कॉलेज से जुड़े जिले के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल महात्मा गांधी (एमजीएच) में सोमवार को हिप ट्रांसप्लांट की जटिल सर्जरी हुई। करीब डेढ़ घंटे के ऑपरेशन में महुआखुर्द के बदनपुरा निवासी रघुनाथसिंह (३५) के दोनों कूल्हों की बॉल बदली गई। यह एमजीएच की बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है।

MGH अस्थिरोग विभाग के सहायक प्राचार्य डॉ. गौरव ने बताया, रघुनाथ को दर्द से राहत मिल चुकी है। वह लम्बे समय बाद सामान्य रूप से चल-फिर सकेगा। करीब ७५ हजार रुपए के आयातित बॉल कूल्हों में डाले गए। निजी अस्पताल में करीब तीन लाख रुपए खर्चा होता। ऑपरेशन टीम में मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य राजन नन्दा व अन्य डाक्टर शामिल थे।

फैक्ट्री श्रमिक रघुनाथ के दोनों कूल्हों में एवीएन बीमारी थी। इसमें कूल्हे की दोनों बॉल गल गई। कूल्हे छोटे पड़ गए, जो दवा से ठीक नहीं हो सकते थे। उपचार केवल कूल्हे की बॉल बदलना ही था। एक कूल्हे में एवीएन बहुत ज्यादा था। नस में खून रुकने से कूल्हे की हड्डी सिकुडऩे लगी थी। कूल्हे ने काम करना बंद कर दिया। रघुनाथ ठीक से नहीं चल पाता था। हमेशा असहनीय दर्द रहता था। बैठना-चलना तक मुश्किल होने लगा था।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned