फिल्म 'शोले' का 'ये हाथ हमको दे दो ठाकुर' डायलॉग लाखन सिंह के लिए है हकीकत

शोले फिल्म के 'गब्बर' की तरह चंबल के डकैतों ने लाखन सिंह के दोनों हाथ और साथ में नाक काट दी थी...

By: Shailendra Sharma

Published: 04 Feb 2021, 08:43 PM IST

भिंड. बॉलीवुड की मशहूर फिल्म 'शोले' का मशहूर डायलॉग 'ये हाथ हमको दे दे ठाकुर' तो आपको याद होगा। लेकिन ये डायलॉग एक इंसान के लिए जिंदगी की सबसे कड़वी सच्चाई है। रील लाइफ का ये डायलॉग और फिल्मी सीन रियल लाइफ में उसके साथ घटित हुआ और चंबल के डकैतों ने उसके दोनों हाथ और नाक काट दिए थे। घटना साल 1979 की है जब चंबल के डकैत छोटे सिंह ने भिंड के तकपुरा गांव में रहने वाले लाखन सिंह के दोनों हाथ और नाक काट दिए थे।

02_gabbar.png

डकैतों ने काट दिए थे दोनों हाथ और नाक
भिंड के तकपुरा गांव के रहने वाले लाखन सिंह आज भी उस घटना को याद कर सिरह उठते हैं जो बरसों पहले साल 1979 में उनके साथ घटी थी। लाखन सिंह बताते हैं कि 1979 में चंबल में डकैत छोटे सिंह का आतंक था। वैसे तो डकैत छोटे सिंह से उनकी कोई दुश्मनी नहीं थी लेकिन उनके बहनोई का डकैतों से कुछ विवाद चल रहा था और इसी विवाद की सजा उन्हें मिली। डकैत छोटे सिंह ने आधा दर्जन साथियों के साथ उनके घर को घेर लिया और फिर उनके दोनों हाथ और नाक काट दी। लाखन सिंह का दर्द यहीं खत्म नहीं होता वो बताते हैं कि उनके दोनों हाथ कटने के बाद सरकार ने उन्हें 500 रुपए महीने की पेंशन देना शुरु की लेकिन बीते आठ साल से उन्हें वो पेंशन भी नहीं मिल रही है। कई दफ्तरों के चक्कर लगा चुके हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

 

लाखन सिंह और एसपी की मुलाकात के बाद सामने आई कहानी
बता दें कि चंबल में डकैतों के खात्मे और पुलिस की बहादुरी को दर्शाने के लिए भिंड जिले में एक संग्रहालय बनवाया जा रहा है। संग्राहलय के लिए भिंड एसपी डकैतों और उनसे पीड़ित लोगों की कहानियों को भी एकत्रित कर रहे हैं और इसी सिलसिले में एसपी ने लाखन सिंह से मुलाकात की थी। लाखन सिंह ने एसपी को अपनी पूरी कहानी सुनाई और फिर से पेंशन दिलाने की मांग भी की है।

देखें वीडियो- रिटायर होने के बाद घर पहुंचे फौजी के स्वागत में लोगों ने बिछा दीं हथेलियां

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned