बाल विवाह ने बिगाड़ा जीवन, 25 साल से पति का इंतजार

Yogendra Sen

Publish: Feb, 15 2018 09:30:00 AM (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
बाल विवाह ने बिगाड़ा जीवन, 25 साल से पति का इंतजार

महिला आयोग में पहुंचे दस शिकायती आवेदन...

भोपाल। मैडम, मैं 25 साल से अपने ससुराल जाने के लिए तरस रही हूं, लेकिन मुझे अभी तक ससुराल से कोई लेने नहीं आया जिसके कारण शादी के बाद भी मैं मायके में रह रही हूं। माता-पिता द्वारा की गई गौने की रस्म पूरी करने के लिए ससुराल से कोई नहीं आया। पति मुझसे फोन पर तो बात करते हैं और हर बार ले जाने का वादा करते हैं बस इसी भरोसे पर मैंने पति के इंतजार में इतने साल गुजार लिए। पर अब मुझे लग रहा है कि ससुराल वाले मुझे ले जाना ही नहीं चाहते हैं। ये कहना था सीहोर निवासी रेणुका (परिवर्तित नाम) का जिसने महिला आयोग में ससुराल वालों के खिलाफ शिकायती आवेदन दिया।

 

गौने की रस्म हुई पर नहीं लेने आए
आवेदिका ने बताया कि जब वह 15 वर्ष की थी तब उसकी शादी माता-पिता ने सिवनी निवासी हेमराज से करा दी गई थी। दोनों परिवारों के बीच 1992 में तय हुआ था कि तीन साल बाद गौने का कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। आवेदिका ने बताया कि शादी के एक साल बाद तक ससुराल वाले आए दिन घर आते थे। जब वह 18वर्ष की हुई तो पिता ने गांव के सामने गौने की रस्म कर दी लेकिन उसको लेने अभी तक कोई नहीं आया।

 

काम का बोलकर गए आज भी नहीं आए
रीवा निवासी एक अन्य आवेदिका ने बताया कि जब वह 16 वर्ष की थी तब उसकी शादी सतना निवासी महेंद्र से हुई थी और गौने के लिए दो साल का समय तय हुआ था। आवेदिका ने बताया कि शादी के बाद पति रोजाना फोन पर उससे बात किया करते लेकिन एक साल बाद पति काम के सिलसिले में दिल्ली चले गए और तब से लेकर अभी तक कभी भी उसको लेने पति नहीं आए।

 

जल्दी आऊंगा लेने, मेरा इंतजार करना
मंडला निवासी आवेदिका ने बताया कि जब वह 13 वर्ष की थी तब सिंगरौली निवासी अरविंद से शादी हुई थी। उस ममय पति १०वीं में पढ़ते थे। पति ने 12वीं परीक्षा पास की और कॉलेज पढऩे के लिए चेन्नई गए तो उसके बाद पति से उसका कोई संपर्क नहीं हुआ। आवेदिका ने बताया कि पति ने आखिरी बार यही कहा था कि वो जल्दी मुझे लेने आएंगे लेकिन अभी तक कोई नहीं आया।

 

शिकायती आवेदन काफी संवेदनशील है। आयोग में करीब 10 शिकायती आवेदन इस तरह के आए हैं। अगली संयुक्त बेंच में शिकायती आवेदन जल्द रखा जाएगा।
-लता वानखेड़े, अध्यक्ष, महिला आयोग

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned