सीएम शिवराज बोले, कर्फ्यू में जरूरी काम से निकले व्यक्ति को न पीटे पुलिस, घर बैठे मंगवा सकते है सामान

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को कलेक्टर और संभागायुक्तों सहित मैदानी अमले के साथ वीडियो कांफ्रेंस की।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के कारण उज्जैन जिले पहली मौत के बाद सरकार और अलर्ट हो गई है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को कलेक्टर और संभागायुक्तों सहित मैदानी अमले के साथ वीडियो कांफ्रेंस की। वीडियो कांफ्रेंस कर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहाकि जिलों में लॉक डाउन जरूरी है ,लेकिन पुलिस किसी को पीटे नहीं। यदि कोई सब्जी, दवा लेने निकला है तो इसका यह मतलब नहीं कि पुलिस उसे रोककर मारे। सब्जी की दुकान खोलने और लगाने की अनुमति नहीं है। वीडियो कांफ्रेंस कर सीएम शिवराज ने प्रदेश के सभी कमिश्नर, आईजी, कलेक्टर, एसपी, निगम आयुक्त, सीएमएचओ को
कहा कि जिलों में जरूरी सामग्री की आपूर्ति के अलावा लोगों की आवाजाही प्रतिबंधित करना जरूरी है इसलिए पीएम मोदी का पालन कराने को कहा है।

व्यवस्थाओं की जानकारी ली

वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सीएम शिवराज प्रदेश के सभ्री जिलों में कोरोना वायरस को रोकने के लिए क्या व्यवस्थाओं की जानकारी ली साथ ही लोगों को राशन आदि की परेशानी न हो इसके लिए प्रशासन को दिशा निर्देश दिए। आप को बता दें कि 24 मार्च को पूरे देश में पीएम मोदी ने लॉक डाउन लगा दिया है।

सामान मंगवा सकते हैं
लॉक डाउन लगने से किसी भी नागरिक को खाने पीने की कमी न हो इसक लिए सीएम शिवराज ने बुधवार की रात कई फैसले लिए। सीएम शिवराज ने बताया कि प्रदेश के लोग घर बैठे सामान खरीद सके और रेस्टोरेंट से खाना मंगवा सके इसके लिए लिस्ट जारी की गई है। लोग लिस्ट में दिए गए लोगों से संपर्क कर किसी भी प्रकार का सामान मंगवा सकते हैं

Show More
Amit Mishra
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned