scriptCorona-like disease comes in Kashi, then Tulsidas himself treats peopl | काशी में आती है कोरोना जैसी बीमारी, तब तुलसीदास खुद करते हैं लोगों का उपचार | Patrika News

काशी में आती है कोरोना जैसी बीमारी, तब तुलसीदास खुद करते हैं लोगों का उपचार

भारत भवन में नाटक 'गोस्वामी तुलसीदासÓ का मंचन

भोपाल

Updated: May 22, 2022 11:10:30 pm

भोपाल. भारत भवन में आयोजित कालजयी महाकवि त्रयी समारोह का समापन रविवार को हुआ। इसमें रंगकर्मी, गायक और संगीतकार पद्मश्री शेखर सेन न सांगीतिक नाटक 'गोस्वामी तुलसीदासÓ की प्रस्तुति दी। शेखर सेन के एकल अभिनय पर केंद्रित प्रस्तुति ने दर्शकों को आनंदित कर दिया। अंतिम दिन भी शो हाउसफुल रहा। इसका निर्देशन और संगीत भी शेखर सेन का ही रहा। यह नाटक का 161वां शो है। शेखर ने बताया कि मेरे सभी नाटक महापुरुषों के जीवन पर आधारित हैं। हर सौ साल में दुनिया में एक बीमारी आती है। जिससे लोगों के जीवन काफी नुकसान होता है। यह नाटक मैंने 1998 में लिखा था लेकिन उस समय नहीं पता था कि कोरोना नामक कोई बीमारी भी आ सकती है।

news
काशी में आती है कोरोना जैसी बीमारी, तब तुलसीदास खुद करते हैं लोगों का उपचार

उन्होंने बताया कि तुलसीदास के समय भी एक ऐसी ही बीमारी आई थी। नाटक में दिखाया गया कि स्वर्ग लोक से गोस्वामी तुलसीदास एक दिन के लिए पृथ्वी पर लोगों से मिलने आते हैं। वे सभी को अपनी कहानी सुनाते हैं। इसमें उनके जन्म से लेकर मृत्यु तक की कहानी होती है। शेखर ने बताया कि भारतीय समाज पलायनवादी समाज है। जब गांव में कोई भी संकट आता है तो सभी लोग वहां से चले जाते हैं। इसके लिए उन्होंने गांव-गांव में अखाड़े बनवाए। जिससे बहुजन को जोड़ा जा सके। साथ ही किसी आपात स्थिति में युवा एकजुट होकर लोगों की मदद कर सकें। उस समय एक बीमारी फैली थी, तब काशी से लोग पलायन कर रहे थे। तब तुलसीदास लोगों के बीच रहकर उनका उपचार करते रहे। मृत लोगों का दाह संस्कार किया। साथ ही वे लोगों को बीमारी से निपटने के उपाय भी बताते हैं।

ऐसे आया नाटक लिखने का विचार
मैं 1997 में अपने माता-पिता को लेकर जर्मनी यात्रा पर गया था। वहां मैंने अंतरराष्ट्रीय रामायण सम्मेलन में भाग लिया। फिर मैं पोर्ट ऑफ स्पेन गया, वहां देखा कि सीताराम की मूर्ति और हनुमान की मूर्ति से बड़ी Óगोस्वामी तुलसीदासÓ की 30 फीट की मूर्ति बनाई गई थी। पूजारी ने कहा कि तुलसीदास जी ने हमें राम के बारे में बताया है। इसलिए यहां सबसे पहले उन्हें ही पूजा जाता है। तभी से मेरे मन में उनकी जीवनी पर नाटक लिखने का विचार आया। उन्होंने बताया कि मैं कांच के सामने खड़े होकर रिर्हसल करता हूं, ताकि ये जान सकूं कि एक्ट करते समय बॉडी मूवमेंट के चलते दर्शक और मेरे बीच कहीं मेरे चेहरा-मेरे भाव तो नहीं छिप रहे हैं।

आराध्यों और नैतिक मूल्यों को लोगों के बीच स्थापित किया
शेखर ने बताया कि Óगोस्वामी तुलसीदासÓ ने रामचरितमानस लिखने के साथ ही जनमानस में हमारे आराध्यों और नैतिक मूल्यों को स्थापित करने के लिए रामलीला की शुरुआत की थी। जिससे हर घर में रामलीला के सभी चरित्र आ गए। रामलीला ही ऐसा नाटक है जो 600 सालों से अनवरत जारी है। शुरुआत में रामलीला के नौ प्रसंगों को अलग-अलग स्थानों पर मंचित किया गया था जो आज संभव नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी को लगी गोली, जवान भी घायल38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीदराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.