बेटियों ने कहा-दहेज की इच्छा रखने वाले संपर्क न करें

बेटियों ने कहा-दहेज की इच्छा रखने वाले संपर्क न करें

Pushpam Kumar | Publish: Dec, 09 2018 06:04:04 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

कई परिवारों के बीच बातचीत का सिलसिला हुआ शुरू

भोपाल. कहीं महिलाएं मुख्य गेट के पास बने पंडाल में प्रतिभागियों की एंट्री कर रही थी तो कहीं अतिथियों का स्वागत सत्कार कर रही थी। परिचय देने युवक-युवतियों को मंच पर बुलाकर परिचय कराने, परिवारों में समन्वय कराने, भोजन सहित सभी प्रकार की व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी महिलाओं की थी, जबकि पुरुष इन व्यवस्थाओं में महिलाओं का सहयोग कर रहे थे।
इस सम्मेलन में मप्र के अलावा राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, उप्र सहित अनेक स्थानों से युवक-युवतियों और परिजनों ने भाग लिया। इस दौरान कई परिवारों के बीच बातचीत का सिलसिला भी शुरू हुआ। समाज के महासचिव दीपक चौहान ने बताया कि सम्मेलन के जरिए ८ से अधिक परिवारों के बीच बातचीत शुरू हुई है और परिवार के लोग एक-दूसरे से संपर्क कर बातचीत आगे बढ़ा रहे हैं। परिचय सम्मेलन में १०० से अधिक युवक-युवतियों ने मंच पर आकर परिचय दिया। इस दौरान युवकों ने जहां पढ़ी लिखी, परिवार को साथ लेकर चलने वाली, नौकरीपेशा जीवनसंगिनी को अपनी पसंद बताया, वहीं कई युवतियों ने नौकरीपेशा, संस्कारी, पढ़े लिखे जीवनसाथी को तवज्जो दी।

अच्छा जीवनसाथी चाहिए

दहेज जैसी बुराई का भी युवाओं ने मंच पर विरोध किया। परिचय देने के दौरान कुछ युवतियों ने बेबाकी के साथ कहा कि जो लोग दहेज चाहते हैं, वे संपर्क न करंे। इसी प्रकार कुछ युवकों का कहना था कि वे दहेज के खिलाफ हैं और उन्हें दहेज नहीं बल्कि एक अच्छा जीवनसाथी चाहिए, जो सुख-दुख हर परिस्थिति में साथ दे।

पीले वस्त्रों में नजर आई महिला शक्ति
सम्मेलन में व्यवस्थाओं की कमान महिला विंग की ६० से अधिक महिलाओं ने संभाली थी। आयोजन समिति की सभी महिलाएं पीली साड़ी पहनकर थी और व्यवस्थाओं का संचालन कर रही थी। मुख्य गेट से अतिथियों को मंच तक लाना, उनका स्वागत सत्कार, सम्मेलन में आने वाले लोगों की इंट्री, भोजन का प्रबंध, सम्मेलन के दौरान प्रतिभागियों का परिचय, मंच का संचालन सहित सभी जिम्मेदारियां महिलाओं ने निभाई।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned