विधायकों से मिलने का दबाव बना कर आचार संहिता का उल्लंघन कर रहे हैं दिग्विजय

- पार्टी ने निर्वाचन आयोग से की दिग्विजय सिंह और मंत्रियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग
- निर्वाचन आयोग ने आरओ से मांगी 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट

By: Ashok gautam

Published: 19 Mar 2020, 05:04 AM IST

भोपाल। भाजपा ने पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राज्यसभा उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के खिलाफ आचार संहित उल्लंघन की शिकायत की है। भाजपा ने दिग्विजय सिंह पर आरोप लगाया है कि वे प्रदेश सरकार के मंत्रियों के साथ बेंगलूरू में विधायकों से मिलने का दबाव बना रहे हैं, जो आचार संहित का उल्लंघन है। उन्होंने निर्वाचन आयोग से उनके तथा मंत्रियों के खिलाफ कर्रवाई की मांग की है। उधर निर्वाचन आयोग ने रिटर्निंग आफिसर से इस पूरे मामले की 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट मांगी है।
भाजपा के विधिक प्रकोष्ठ के पदाधिकारी एसएस उप्पल ने गुरूवार को मुख्य निर्वाचन आयुक्त, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी और रिटर्निंग आफिसर से की गई शिकायत में कहा गया है कि राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस से उम्मीदवार दिग्विजय सिंह प्रदेश सरकार के 9 मंत्रियों और अन्य लोगों के साथ बेंगलूरू गए हैं। उनका उद्देश्य बेंगलूरू में रह रहे विधानसभा के 16 सदस्यों पर इस बात का दबाव डाल रहे हैं, जिससे वे 26 मार्च को होने वाले राज्यसभा चुनाव में उन्हें ही वोट दें। शिकायत में यह भी कहा कि जबकि इन विधायकों ने दिग्विजय से मिलने से मना कर दिया था।

शिकायत में कहा गया है कि दिग्विजय सिंह राज्यसभा चुनाव में प्रत्याशी हैं, इसलिए उनके द्वारा विधायकों पर इस तरह दबाव डालना, उन्हें प्रभावित करने का प्रयास करना आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। इसलिए दिग्विजय सिंह और प्रदेश सरकार के 9 मंत्रियों के खिलाफ समुचित कार्रवाई की जाए, ताकि राज्यसभा के चुनाव शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक तरीके से संपन्न हो सकें।

रंजना बघेल ने लिया नामांकन पत्र वापस, अब तीन प्रत्याशी मैदान में
भोपाल। भाजपा से राज्यसभा चुनाव के लिए रंजना बघेल ने गुरूवार को अपना नामांकन फार्म वापस ले लिया है। रंजना बघेल आज दोपहर साढ़े 12 बजे विधानसभा पहुंची थीं। मप्र अब राज्यसभा प्रत्याशी के रूप में सिर्फ तीन नाम हैं, जिसमें ज्यातिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह और सुमेर सिंह सोलंकी शामिल हैं। रिटर्निंग आफिसर ने आज शाम को पांच बजे के बाद प्रत्याशियों के भारत निर्वाचन आयोग को भेज दी है।

निर्वाचन आयोग की अनुमति के बाद शुक्रवार को प्रत्याशियों की सूची प्रकाशित की जाएगी। इधर रिटर्निंग आफिसर ने मतदाता सूची तैयार करने का काम भी शुरू कर दिया है। इस सूची में इन 6 विधायकों का नाम नहीं है, जिन्हें विधानसभा अध्यक्ष ने सदस्यता समाप्त की थी। हालांकि मतदाता सूची तैयार में नाम जोडऩे और निकालने का काम मतदान के दिन तक किया जा सकेगा। इसके चलते सूची में संशोधन का काम जारी रहेगा। राज्यसभा के लिए मतदान 26 मार्च को सुबह 9 बजे से शाम 4 तक चलेगा और उसी दिन शाम पांच बजे के बाद परिणाम घोषित किए जाएंगे। गौरतलब है कि चुनाव के लिए अधिसूचना 6 मार्च को जारी की गई थी।

Ashok gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned