संघ ने शिलान्यास किया तो दीवार तोड़ देंगे: दिग्विजय आपने अपनी बात कह दी, हम नजर रखेंगे: डीआइजी

डेढ़ घंटे तक तनातनी: भोपाल के गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र में संघ की संस्था को जमीन देने पर बढ़ा विवाद

By: Sumeet Pandey

Published: 12 Jul 2021, 01:09 AM IST

भोपाल. गोविंदपुरा के औद्योगिक क्षेत्र में रविवार को करीब डेढ़ घंटे तक माहौल गर्म रहा। मामला क्षेत्र के पार्क की जमीन आरएसएस से जुड़ी संस्था को देने का है। इसका कांग्रेस ने पुरजोर विरोध किया। मौके पर राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने कहा कि पार्क में संघ की संस्था ने कार्यालय बनाने भूमिपूजन, शिलान्यास किया तो हम दीवार तोड़ देंगे। इस पर डीआइजी इरशाद वली ने भी चेतावनी दी। कहा, आपने अपनी बात कह दी। अब हम आप पर नजर रखेंगे। इससे नाराज दिग्विजय कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ बैरीकेड हटाने का प्रयास करने लगे। यह देख डीआइजी ने पुलिस कर्मियों के साथ कांग्रेस नेताओं पर बल प्रयोग शुरू कर दिया। वाटर कैनन भी चलाई गई, लेकिन दिग्विजय बैरीकेड पकड़कर खड़े रहे। इस बीच दिग्विजय की तबीयत बिगड़ती देख समर्थक उन्हें कार में ले गए। इधर, पहरे में कार्यक्रम संपन्न हुआ।

संघ की लघु उद्योग भारती संस्था को कार्यालय बनाने दी गई 10 हजार वर्गफीट जमीन पर शिलान्यास के दौरान हंगामा हुआ। विरोध में दिग्विजय सिंह, गोविंद गोयल, कैलाश मिश्रा, राहुल सिंह राठौर, योगेंद्र सिंह चौहान सहित कांग्रेस के कई नेता पार्क की ओर बढ़ रहे थे। जैसे ही दिग्विजय पहुंचे, उनकी पुलिस प्रशासन के अधिकारियों से बहस शुरू हो गई।

सीएम कर रहे पौधे लगाने का नाटक: सिंह
दिग्विजय सिंह ने कहा कि पार्क की में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व मुख्यमंत्री स्व. बाबूलाल गौर ने पौधरोपण किया था। ऐसा क्या हो गया कि जमीन आरएसएस की संस्था को दे दी गई। यहां पेड़ काटे जा रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान पौधे लगाने का नाटक कर रहे हैं। वह अपने ही लगाए पौधों को कटवा रहे हैं। इंडस्ट्रियल एरिया के 95 प्रतिशत लोग पार्क की जमीन लघु उद्योग भारती संस्था को आवंटन करने के खिलाफ हैं। जमीन देना है तो अचारपुरा में दें। दूसरी संस्थाओं को भी दीजिए। गोविंदपुरा में जमीन का आवंटन असंवैधानिक है। इस जमीन का न तो लैंड यूज बदला है, न बिल्डिंग परमिशन ली गई है। हमने कलेक्टर अविनाश लवानिया से कहा कि हमारी सीएम से मुलाकात करा दें। उन्होंने जवाब दिया कि वह उपलब्ध नहीं हैं। सिंह ने कहा- सवाल है कि क्या वह चंदाखोरों और दलालों के लिए हैं। हमारी लड़ाई जारी रहेगी। हम लोग अदालत की लड़ाई लड़ेंगे। विधानसभा में भी लड़ेंगे।

यह है विवाद
लघु उद्योग भारती संस्था गार्डन की जगह पर कार्यालय बनाना चाहती है। गार्डन की देखरेख उद्योगपति 50 साल से करते आ रहे हैं। गार्डन के मुख्य गेट पर ताला भी एसोसिएशन का है। आरोप है कि कुछ दिन पहले भारती से जुड़े लोगों ने पीछे से बाउंड्री तोड़ छोटे पौधे उखाड़ दिए। करीब 750 एकड़ में एक ही गार्डन है। कार्यालय बनने से आवक-जावक बढ़ेगी, जिससे माल लाने-ले जाने में परेशानी होगी। इसे लेकर वे विधायक, मंत्री, सचिव, सरकार तक बात पहुंचा चुके हैं।

इन पर केस
कोरोना आपदा में शासकीय आदेशों का उल्लंघन करने के मामले में दिग्विजय सिंह, गोविंद गोयल, पीसी शर्मा, कैलाश मिश्रा, विभा पटेल, राहुल सिंह राठौड़, योगेंद्र सिंह चौहान सहित 200 कार्यकर्ताओं के खिलाफ अशोक गार्डन थाने में एफआइआर दर्ज की गई है। दिग्विजय सिंह ने कहा है कि भूमि आवंटन की जानकारी विधायक कृष्णा गौर तक को नहीं दी गई ये बात उन्होंने मुझे बताई। सीएम को फोन किया तो फोन नहीं उठाया। मैं इस आवंटन का हर स्तर पर विरोध जारी रखूंगा।

काम नियमानुसार हुआ है। गोविंदपुरा इंडस्ट्री एसो. और लघु उद्योग भारती दोनों ही हमारे अपने हैं। जो भी विवाद है दोनों पक्षों के साथ बैठकर सुलझाएंगे।
ओमप्रकाश सकलेचा एमएसएमई मंत्री

Sumeet Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned