तीन साल के बाद शिक्षकों को बंधी नियुक्ति की आस, विभागीय स्तर पर कार्यवाही शुरू

30 हजार से अधिक चयनित शिक्षकों का है मामला

भोपाल। तीन साल से नियुक्ति का इंतज़ार कर रहे 30 हजार से अधिक चयनित माध्यमिक और हाई स्कूल शिक्षकों को अब ज्वाइनिंग की आस बंधी है। इसका प्रमुख कारण विभागीय स्तर पर कार्यवाही शुरू होना है।

जानकारी के मुताबिक 27 फीसदी ओबीसी आरक्षण का मामला हाई कोर्ट में होने से इनकी नियुक्ति पर भी पेच फंसा हुआ था। सोमवार को इस मामले पर हाई कोर्ट में सुनवाई होना है। इस केस में फैसला आने के पहले शिक्षा विभाग तैयारी पूरा करने की कवायद में है। शहडोल और सीहोर में जिला स्तर पर नियुक्ति सम्बन्धी समिति बनाए जाने की बात सामने आई है। हालांकि अधिकारी इस मामले में कुछ भी कहने से बच रहे हैं। माना जा रहा है कि उप चुनाव को देखते हुए सरकार शिक्षकों की नाराजगी को शांत करना चाहती है। मालूम हो नियुक्ति के लिए चयनित शिक्षक राजधानी में 13 से अधिक बड़े आंदोलन कर चुके हैं।

चयनित शिक्षकों से जुड़ा घटनाक्रम
- 3 सितंबर 2018 को शिक्षकों की नियुक्ति संबंधी नोटिफिकेशन जारी हुआ।
- फरवरी 2019 में परीक्षा का आयोजन
- अगस्त 2019 में परीक्षा परिणाम आया
- जनवरी 2020 में विभागीय नोटिफिकेशन जारी हुआ
- जुलाई 2020 में तीन दिन चयनित शिक्षकों का वेरिफिकेशन हुआ
- जुलाई 2021 को शेष शिक्षकों का वेरिफिकेशन पूरा हुआ।

दीपेश अवस्थी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned