सीवेज का पानी सड़कों पर फैलने के मामले पर मानवाधिकार आयोग ने मांगी रिपोर्ट

राजधानी की कई सडकों पर बह रहा सीवेज

भोपाल/ न्यू मार्केट के सुलभ कॉम्प्लेक्स के चेंबर से ओवरफ्लो होकर सीवेज का पानी सड़कों पर फैलने और स्थानीय दुकानों-मकानों में घुसने के मामले में मानव अधिकार आयोग ने संज्ञान लेकर निगमायुक्त और भोपाल संभागायुक्त से जांच रिपोर्ट तलब की है। आयोग का मानना है कि सीवेज का पानी फैलने से मौके पर बदबू पनप रही है और बीमारियां फैलने की आशंका है।

इससे यहां के रहवासी व व्यापारी परेशान हो रहे हैं। इसी तरह ईदगाह हिल्स क्षेत्र में टीबी और कैंसर अस्पताल के पास पास सीवेज का पानी सड़कों पर फैलने और अस्पताल जैसे संवेदनशील संस्थानों में संक्रमण बढऩे के आसार को देखते हुए भी आयोग ने रिपोर्ट मांगी है। आयोग अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेंद्र कुमार जैन ने इन दोनों मामलो पर दो सप्ताह में रिपोर्ट तलब की है।

अमानक खाद बिक्री पर कृषि विभाग सख्त
तीन कम्पनी प्रमुखों पर एफआईआर, 5 कम्पनियाँ ब्लैक लिस्ट

किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री सचिन यादव के निर्देश पर विभागीय अमले ने अमानक खाद बिक्री पर सख्त रवैया अख्तियार किया है। तीन उर्वरक कम्पनियों के प्रमुखों पर केस दर्ज किया गया है और 5 अन्य कम्पनियों को ब्लैक लिस्टेड कर दिया गया है।

एडवांस क्रॉप केयर के एमडी आशीष तिवारी, धनलक्ष्मी बायोकेन अहमदाबाद के एमडी मुकेश जटानिया तथा आर.एम. फॉस्फेट एण्ड केमिकल महाराष्ट्र के मार्केटिंग मैनेजर मुकुन्द धजेकर पर अमानक उर्वरक पाये जाने पर एफआईआर दर्ज कराई गई है। इसके अतिरिक्त बालाजी एग्रो ऑग्रेनिक्स एण्ड फर्टिलाइजर्स, मोनी मिनरल्स एण्ड ग्राइंडर्स, रायल एग्रीटेक, त्र्यम्बकेश्वर एग्रो इंडस्ट्रीज और एग्रोफॉस इंडिया लिमिटेड में अनियमितताएँ पाये जाने पर इन्हें ब्लैक लिस्ट कर दिया गया है।

प्रदेश में एक अप्रैल से 30 सितम्बर 2019 तक अमानक खाद बिक्री के प्रदेश में 5751 नमूने प्रयोगशाला में भेजे गये, जिनमें से 5619 नमूनों की जांच हुई। इनमें से 5220 नमूने मानक तथा 399 नमूने अमानक सिद्व हुए। अमानक नमूनों का विक्रय प्रतिबंधित कर नियमानुसार कार्यवाही की जा रही है।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned