दो दिन में ज्योतिरादित्य सिंधिया में दिखे ये बदलाव, ट्वीट कर कही है बड़ी बात

दो दिन में ज्योतिरादित्य सिंधिया में दिखे ये बदलाव, ट्वीट कर कही है बड़ी बात

Muneshwar Kumar | Publish: Sep, 16 2019 07:26:38 PM (IST) | Updated: Sep, 17 2019 11:53:50 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India


सिंधिया ने कहा- कांग्रेस कार्यकर्ताओं के खून पसीने से बनी है मध्यप्रदेश में सरकार

भोपाल/ मध्यप्रदेश कांग्रेस में प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी के चले खींचतान पर लगता है कि थोड़े दिन के लिए ब्रेक लग गया है। इस कुर्सी के दावेदार भी अब शांत नजर आ रहे हैं। प्रदेश अध्यक्ष के दावेदार ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शांत हैं, उनके समर्थक भी चुप हैं। दो दिनों से ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्यप्रदेश में हैं, वे बिल्कुल बदले-बदले से नजर भी आ रहे हैं।

हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं कि क्योंकि सिंधिया के इंदौर दौरे के दौरान कई ऐसे बदलाव दिखे, जो पहले नहीं हुआ था। ज्योतिरादित्य सिंधिया दूसरे खेमों के लोगों से भी इंदौर में मिले। वो भी पूरी आत्मियता के साथ। उनके घर गए और साथ में लंच भी किया। ज्योतिरादित्य सिंधिया के अंदर आए इस परिवर्तन को एक सियासी चाल के रूप में सियासत के जानकार देख रहे हैं। सोमवार को उन्होंने एक ट्वीट भी किया। जो कमलनाथ सरकार के पक्ष में था।

Jyotiraditya Scindia supporters made a big statement

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीट कर लिखा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं के खून पसीने से बनी है मध्यप्रदेश में सरकार, उनका मान-सम्मान बनाए रखना मेरा फर्ज। जाहिर है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के इस ट्वीट के मायने तो यहीं निकल रहे हैं कि अब कांग्रेस में कुछ दिनों के लिए युद्ध विराम हो गया है। क्योंकि अपने पिछले दौरे के दौरान सिंधिया ने भी सरकार पर सवाल उठाए थे।

इंदौर में दिखे बदलाव
इंदौर में दिखे बदलाव की प्रदेश की सियासत में सबसे ज्यादा चर्चा है। ज्योतिरादित्य सिंधिया वहां अलग-अलग गुट के नेताओं के घर जाकर मध्यप्रदेश की राजनीति में सबको चौंका दिया। इंदौर पहुंचने के बाद सिंधिया सीधे सुरेश पचौरी गुट के विधायक संजय शुक्ला के घर पहुंचे। वहां पहुंचने के बाद वे उनके परिवार से मिले और लंच भी किया। ये मुलाकात कोई गुप्त नहीं थी। वहां की तस्वीरें ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने ट्विटर हैंडल से शेयर भी किया।

दिग्विजय के करीबी से भी मिले
सिंधिया का मिलने का सिलसिला यहीं खत्म नहीं हुआ। पंकज शुक्ला से मिलने के बाद वे दिग्विजय सिंह के गुट के विधायक विशाल पटेल से मिलने चले गए। विशाल पटेल दिग्विजय सिंह के करीबी माने जाते हैं। उसके बाद इंदौर से लोकसभा चुनाव लड़े पंकज सांघवी के घर भी पहुंचे।

कमलनाथ गुट से भी मिले
ज्योतिरादित्य सिंधिया इसके बाद इंदौर कांग्रेस के अध्यक्ष विनय बाकलीवाल से भी उनके घर जाकर मुलाकात की। विनय बाकलीवाल इंदौर कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। उन्हें सीएम कमलनाथ का करीबी कहा जाता है। कांग्रेस के हर गुट के नेताओं से सिंधिया की मुलाकात के कई मायने प्रदेश की राजनीति में निकाले जा रहे हैं।


कहा जा रहा है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया शायद सभी को साध कर अपनी मंजिल तक पहुंचना चाहते हैं। प्रदेश की राजनीति में बताया जाता है कि इन सभी में किसी भी गुट के नेता नहीं चाहते हैं कि ज्योतिरादित्य सिंधिया यहां के प्रदेश अध्यक्ष बनें। ऐसे में सिंधिया की कोशिश है कि अब अपनी छवि पार्टी के अंदर एक सर्वमान्य चेहरे के रूप में स्थापित की जाए। ताकि आगे की राह और आसान हो सके।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned