दागी अफसरों के साथ कमलनाथ कैसे लडेंगे भ्रष्टाचार की लडाई

दागी अफसरों के साथ कमलनाथ कैसे लडेंगे भ्रष्टाचार की लडाई

harish divekar | Publish: Sep, 16 2018 01:13:50 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

भाजपा ने कहा कांग्रेस की कथनी—करनी में अंतर

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने शिवराज सरकार को भ्रष्ट सरकार बताते हुए इसके खिलाफ आंदोलन छेडा है। कांग्रेस लगातार शिवराज सरकार के भ्रष्टाचार की कलई खोलने में लगी हुई है, वो चाहे शिवपुरी में तीन माह पहले बने पुल के बहने का मामला हो या ई—टेंडर घोटाला। इधर भाजपा ने कांग्रेस की कथनी—करनी में अंतर बताया है।
भाजपा का कहना है कि कमलनाथ ने उन दागी अपफसर की टीम एकत्र की है, जिन्हें सरकार ने भ्रष्टाचार के आरोप में दंडित किया जा चुका है।

भाजपा प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल का कहना है कि कांग्रेस अनुसूचित जाति की उपाध्यक्ष शशि कर्णावत को विशेष न्यायालय से 5 साल की सजा हुई थी। इसके बाद सरकार ने उन्हें आइएएस के पद से बर्खास्त किया था।

आज वे कांग्रेस में दलित की आवाज उठाने की बात कर रही हैं। इसी तरह राहुल गांधी के स्पेशल प्रोजेक्ट शक्ति एप की प्रभारी रिटायर्ड आइएएस अजिता बाजपेयी पांडे पर भी आरोप लगे हैं।

इनके तकनीकी शिक्षा विभाग में अपर मुख्य सचिव के पद पर रहने के दौरान इनके पति अमित पांडे तत्कालीन व्यापमं डेटा एनालिसिस समन्वय भी व्यापमं घोटाले में फंसे थे, इसके बाद सरकार ने अजिता वाजपेयी को तकनीकी शिक्षा विभाग से हटाया था।

कांग्रेस का घोषणा पत्र तैयार करने वाली टीम में शामिल रिटायर्ड आइएएस वीके बाथम का कार्यकाल भी दागदार रहा है।  विवादों के चलते उन्हें छतरपुर कलेक्टरी और नर्मदापुरम संभाग कमिश्नर पद से अल्प समय में ही हटाया गया था। हाल ही में मुक—बधिर छात्रावासों में सैक्स स्केंडल सामने आने के बाद यह बात भी सामने आई है कि इन होस्टल संचालकों को अनुदान बाथम ने सामाजिक न्याय में संचालक और प्रमुख सचिव के पद पर रहते हुए दिया था।

इसी तरह एक अन्य रिटायर्ड आइएएस रघुबीर श्रीवास्तव भी कांग्रेस की घोषणा पत्र कमेटी में शामिल हैं।

इनके उपर भी आरोप है कि इन्होंने अल्प संख्यक एवं पिछडावर्ग कल्याण विभाग में पदस्थ रहते हुए लाखों रुपए का प्रिटिंग घोटाला किया था, इस मामले में अभी जांच चल रही है। श्रीवास्तव का इसी कारण प्रमोशन भी नहीं हुआ था।

Ad Block is Banned