scriptLED Traffic Signal Blinker Light, For Road Safety in madhya pradesh highway | नो टेंशनः एमपी के हाइवे पर सुरक्षित होगा सफर, नई तकनीक का इस्तेमाल | Patrika News

नो टेंशनः एमपी के हाइवे पर सुरक्षित होगा सफर, नई तकनीक का इस्तेमाल

locationभोपालPublished: Nov 25, 2023 07:46:05 am

Submitted by:

Manish Gite

भोपाल से जबलपुर, रीवा, यूपी कॉरीडोर पर एडवांस ट्रैफिक मैनेजमेंट, कम होंगे रोड एक्सीडेंट, दुर्घटना या ख़राब मौसम की जानकारी हाइवे पर यात्रा कर रहे बाकी वाहन चालकों को मिलेगी, टोल प्लाजा को एडवांस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम से जोड़कर बना रहे नेटवर्क..>

highway.png

हर्ष पचौरी

मध्य प्रदेश के राजमार्ग पर वाहन चलाना पहले से ज्यादा सुरक्षित होने जा रहा है। नई तकनीक का इस्तेमाल कर टोल प्लाजा को एडवांस्ड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम से जोड़कर संबंधित राजमार्ग पर वाहन चलाने वाले ड्राइवर को लाइव मौसम का हाल एवं आगे के ट्रैक पर हुए रोड एक्सीडेंट की खबरें अपडेट होंगी। इससे वाहन चालक अपने वाहन को रोक सकेगा या फिर अपना रास्ता बदल सकेगा।

ड्राइविंग स्किल को सुरक्षित बनाने के लिए भोपाल से जबलपुर रीवा यूपी तक जाने वाले सिक्स लेन कॉरिडोर को एडवांस तकनीक से लैस किया जा रहा है। इसके लिए खराब मौसम में भी नजर आने वाले एलईडी ब्लिंकर ट्रैफिक सिग्नल एवं घने कोहरे एवं अंधेरे में दिशा बताने वाले ***** यंत्र लगाए जा रहे हैं। पूरे रास्ते के ट्रैक को रेडियम पेंट से रंग कर वाहन चलाते समय हेडलाइट की रोशनी से चमकने वाली सड़क निर्मित की जा रही है।

highway-mp.png

इन प्रमुख रास्तों पर इस्तेमाल

- भोपाल से औबेदुल्लागंज, रायसेन, बरेली, नरसिंहपुर, जबलपुर, कटनी, रीवा, सतना के रास्ते इलाहाबाद तक जाने वाले कॉरिडोर को इस तकनीक से जोड़ा जा रहा है।
- इंदौर से हैदराबाद तक बड़वाह बुरहानपुर महाराष्ट्र की अकोला वाशिम तेलंगाना तक जाने वाले 713 किलोमीटर लंबे एक्सप्रेस वे को इस टेक्नोलॉजी से जोड़ा जाएगा।
- मध्य प्रदेश के पूर्वी छोर अमरकंटक को डिंडोरी जबलपुर नर्मदापुरम भोपाल से कनेक्टिविटी देने वाले प्रस्तावित 1300 किलोमीटर लंबे नर्मदा एक्सप्रेस वे पर यह टेक्नोलॉजी लाई जा रही है।

एडवांस ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम

बढ़ते सड़क हादसों पर लगाम लगाने के लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण टेक्नोलॉजी की मदद से इसमें कमी लाने प्रयासरत है। इस सिस्टम के तहत राष्ट्रीय राजमार्गों और हाइवे पर नंबर प्लेट पढ़ने वाले कैमरा और सेंसर का प्रयोग किया जाएगा। जो हाइवे पर यात्रा कर रहे वाहनों को किसी भी दुर्घटना की स्थिति में अलर्ट भेजने का काम करेंगे। जिससे कोहरा जैसी स्थिति में वे पहले से ही सावधान हो जाएं या किसी भी वजह से हाइवे पर लगे लंबे जाम से बचने के लिए किसी और रास्ते का चुनाव कर सकें।


राजमार्ग पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सुरक्षा मापदंड अपनाए जा रहे हैं। इसके तहत निर्माता एजेंसियों को लगातार सुझाव दिए जा रहे हैं।
अरविंद सक्सेना, अपर आयुक्त, परिवहन

ट्रेंडिंग वीडियो