पद ग्रहण करते ही एक्शन में आए मंत्री, कहा- लापरवाह और कामचोर अधिकारी-कर्मचारी को वीआरएस दो

ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने यह निर्देश मंत्रालय में विभागीय योजनाओं की समीक्षा में दिये।

By: Pawan Tiwari

Published: 15 Jul 2020, 01:44 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश में मंत्रियों के विभागों के बंटवारे के बाद कई मंत्रियों ने अपने विभाग का कार्यकार ग्रहण कर लिया है। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर चार्ज लेते ही एक्शन में आ गए हैं। उन्होंने लापरवाह अधिकारियों और कर्मचारियों को वीआरएस देने के निर्देश दिए हैं। ट्रांसफार्मर और मीटर का बेहतर प्रबंधन करें। सभी वितरण कम्पनियों के स्टोर का निरीक्षण करवायें। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने यह निर्देश मंत्रालय में विभागीय योजनाओं की समीक्षा में दिये। तोमर ने कहा कि मितव्ययता पर विशेष ध्यान दें।

तोमर ने कहा कि शहरों में शत-प्रतिशत घरों में बिजली मीटर लगाये जायें। इसके साथ ही प्रतिमाह इनकी रीडिंग भी ली जाये। आकलित खपत के बिल नहीं दिये जायें। इससे जहां विद्युत उपभोक्ता संतुष्ट होगा, वहीं कम्पनी की आय भी बढ़ेगी।

90 दिन का लक्ष्य तय करें
ऊर्जा मंत्री तोमर ने कहा कि बिजली से संबंधित हानियों (Losses) को कम करने के लिये 90 दिन का लक्ष्य रखें। इस दौरान हर छोटी-बड़ी कमियों का विश्लेषण कर उन्हें दूर करने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि बिजली चोरी रोकने के लिये पेट्रोलिंग बढ़ायें। सभी स्तर के अधिकारी फील्ड में जायें। तोमर ने कहा कि लापरवाह और काम नहीं करने वाले अधिकारी-कर्मचारी को वीआरएस दें। स्टोर में जो सामग्री पड़ी है, उसे फील्ड में भेजें, सामग्री की जरूरत का आकलन बेहतर ढंग से करें। अनावश्यक सामग्री नहीं खरीदी जाये।

आपके मान-सम्मान में कमी नहीं आने देंगे
ऊर्जा मंत्री ने कहा कि सभी लोग मिलकर उपभोक्ताओं को बेहतर सेवाएं दें। उन्होंने कहा कि आपके मान-सम्मान में कोई कमी नहीं आने देंगे। कहीं खंभे टेढ़े हैं, तो कहीं तार झूल रहे हैं, ऐसी समस्याओं का त्वरित निराकरण करें। अधिकारियों-कर्मचारियों को बेहतर कार्य करने पर सम्मानित करें और लापरवाही पर दण्डित करें। बैठक में प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे ने विभागीय योजनाओं की जानकारी दी।

Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned