सदन में पूरे समय मौजूद रहें विधायक, अब हर सप्ताह होगी बैठक : कमलनाथ

सदन में पूरे समय मौजूद रहें विधायक, अब हर सप्ताह होगी बैठक : कमलनाथ
assembly news today

Anil Chaudhary | Updated: 18 Jul 2019, 07:54:08 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

- कांग्रेस विधायक दल की बैठक में दिए निर्देश
- बसपा के संजीव, सपा के राजेश नहीं पहुंचे बैठक में
- विधायकों ने फिर उठाया मंत्रियों के न सुनने का मुद्दा

भोपाल. सीएम हाउस में बुधवार रात हुई विधायक दल की बैठक में एक बार फिर विधायकों ने मंत्रियों के न सुनने का मुद्दा उठाया। कई विधायकों ने कहा कि मंत्रियों से कहा जाए कि वे विधायकों को तवज्जो दें।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि विधानसभा का बजट सत्र सबसे महत्त्वपूर्ण है, इसलिए सभी विधायक सदन में पूरे समय मौजूद रहें। हम लोग फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार हैं। भाजपा कभी भी डिवीजन मांग सकती है, जिससे वोटिंग की नौबत आ सकती है।

कमलनाथ ने कहा कि भाजपा अपने 15 साल के कारनामों को छुपाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाएगी, उनको पूरी ताकत के साथ जवाब देना है और उसके झूठ को बेनकाब करना है। भाजपा के विकास के झूठे दावों की कलई खुल चुकी है, विधानसभा में उसकी हर साजिश और सरकार की बदनाम करने की कोशिशों को विफल कर जनता को सच बताएं।

नए विधायक सदन की हर कार्यवाही में बढ़ चढ़कर हिस्सा लें। कमलनाथ ने कहा कि विधायकों को 15 साल के बदतर हालात ठीक करने की जिम्मेदारी उठानी है, इसलिए सरकार को बेहतरी के सुझाव और योजनाएं भी बताएं।

हर विधायक जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए काम करे। कमलनाथ ने कहा कि संसदीय परंपरा के हिसाब से सत्र के दौरान हर सप्ताह विधायकों की बैठक की जाएगी। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि कभी फ्लोर टेस्ट की नौबत आ सकती है, इसलिए सभी एकजुट रहें और सदन में उपस्थित रहें।

- रामबाई ने कहा- कर्नाटक का असर

बैठक से बाहर आईं बसपा विधायक रामबाई ने मीडिया से कहा कि कर्नाटक और गोवा की तरह मध्यप्रदेश सरकार को भी खतरा है। यदि इस स्थिति में मुझे मंत्री नहीं बनाया तो क्या फायदा। मेरे परिवार वालों पर झूठे मुकदमे लगाए गए हैं।

मेरा समर्थन इसलिए है, क्योंकि कमलनाथ को मुख्यमंत्री रहना चाहिए। रामबाई ने बिजली की समस्या भी उठाई। उन्होंने कहा कि इससे उनको लोगों की नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है साथ ही सरकार की बदनामी भी हो रही है। इस पर ध्यान देना जरूरी है। रामबाई ने कहा कि विकास के मामले में उनके क्षेत्रों को प्राथमिकता मिलनी चाहिए।

उनकी मंत्री नहीं सुनते। वहीं, इस बैठक में बसपा विधायक संजीव सिंह और सपा विधायक राजेश शुक्ला नहीं पहुंचे। जबकि दोनों विधायक भोपाल में ही मौजूद हैं। सूत्रों का कहना है कि वे इस बात से नाराज हैं, क्योंकि विकास के मामले में मंत्री उनके क्षेत्रों को प्राथमिकता नहीं दे रहे हैं।

विधायकों को सदस्यता अभियान में लगाने पर भार्गव को ऐतराज
* संगठन मंत्री सुहास भगत से की चर्चा

भाजपा विधायकों को पार्टी के सदस्यता अभियान में लगाए जाने पर नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने ऐतराज जताया है। इस संबंध में भार्गव ने संगठन महामंत्री सुहास भगत से दूरभाष पर चर्चा भी की। उन्होंने भगत को बताया कि मौजूदा परिस्थितियों में विधायकों का सदन में मौजूद रहना अति आवश्यक है। जबकि पार्टी ने विधायकों को पदाधिकारी के नाते क्षेत्र में कैंप लगाकर सदस्यता दिलाना अनिवार्य किया है।

भार्गव ने कहा कि यदि विधायक क्षेत्र में जाएंगे तो उनकी उपस्थिति सदन में कैसे रहेगी। जबकि हालात यह हैं कि बजट चर्चा के दौरान सदन में कभी भी मतविभाजन की स्थिति बन सकती है, ऐसे में हमारे विधायकों की संख्या कम होने से हमारा मकसद पूरा नहीं होगा। इस पर सुहास भगत ने भार्गव को आश्वासन दिया कि विधानसभा सत्र तक विधायकों को सदस्यता अभियान से मुक्त रखा जाएगा।

विधायक प्रदीप लारिया और शरदेन्दु तिवारी ने भार्गव से सदन में गैर हाजिर रहने की अनुमति मांगी थी, उन्होंने कहा था कि संभागीय संगठन मंत्री ने उनकी ड्यूटी सदस्यता अभियान में लगाई है। इसके बाद भार्गव ने संगठन महामंत्री भगत से चर्चा की। इसके बाद विधायकों को सत्र के दौरान पूरे समय मौजूद रहने के लिए पार्टी से पत्र भी जारी किया गया। इस मामले में केन्द्रीय संगठन को भी पत्र लिखकर जानकारी दी गई।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned