कांग्रेस ने पहली बार राजगढ़ सीट से किसी महिला को बनाया उम्मीदवार, जानें कौन हैं मोना सुस्तानी

कांग्रेस ने पहली बार राजगढ़ सीट से किसी महिला को बनाया उम्मीदवार, जानें कौन हैं मोना सुस्तानी

Pawan Tiwari | Publish: Apr, 13 2019 10:52:37 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

 

कांग्रेस ने पहली बार राजगढ़ सीट से किसी महिला को बनाया उम्मीदवार, जानें कौन हैं मोना सुस्तानी

भोपाल. मध्यप्रदेश के लिए कांग्रेस ने तीन और उम्मीदवारों के नामों की घोषणा कर दी है। इस लिस्ट में गुना-शिवपुरी के साथ-साथ राजगढ़ और विदिशा संसदीय सीट पर उम्मीदवार के नाम की घोषणा की गई है। राजगढ़ संसदीय सीट को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का गढ़ माना जाता है। कांग्रेस ने इस बार यहां से मोना सुस्तानी को उम्मीदवार बनाया है। मोना सुस्तानी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह खेमे की मानी जाती हैं और पूर्व कांग्रेस नेता की बहू हैं। मोना सुस्तानी का मुकाबला भाजपा के रोडमल नादगर के साथ होगा।


पहली महिला प्रत्याशी
मोना सुस्तानी राजगढ़ संसदीय सीट पर कांग्रेस पार्टी की पहली महिला उम्मीदवार हैं। मोना ज़िला कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष हैं। वो जिला पंचायत सदस्य हैं इससे पहले वो जनपद सदस्य भी रह चुकी हैं। मोना सुस्तानी किरार धाकड़ समाज की महिला विंग की राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। मोना सुस्तानी पूर्व विधायक गुलाब सिंह सुस्तानी की बहू हैं। गुलाब सिंह जिला कांग्रेस के अध्यक्ष, एमपी एग्रो के चेयरमैन, होने के साथ दो बार राजगढ़ विधानसभा सीट से दो बार विधायक भी रह चुके हैं। राजगढ़ सीट दिग्विजय सिंह की परंपरागत सीट है। दिग्विजय सिंह यहां से दो बार सांसद रह चुके हैं। उनके भाई लक्ष्मण सिंह भी इसी सीट से संसद रह चुके हैं।

 

इस कारण से मिला टिकट
मोना सुस्तानी दिग्विजय सिंह खेमे की हैं। इसके साथ-साथ इस संदीय सीट पर सबसे ज्यादा ओबीसी वोटर हैं। पूर्व सीएम श्री सिंह के राजगढ़ से चुनाव नहीं लड़ने के बाद यहां टिकिट को लेकर खींचतान मची हुई थी। उन्हें टिकट दिए जाने के पीछे का एक बड़ा कारण जिले के धाकड़ समाज को भाजपा के वोट बैंक से तोड़कर कांग्रेस में लाना और बाहुल्य समाज की खींचतान कम करना भी बड़ा कारण माना जा रहा है।

लोकसभा क्षेत्र में आठ विधानसभा, छह कांग्रेस के खाते में
पिछले लोकसभा चुनाव में जब सांसद रोडमल नागर सांसद चुने गए थे। उस समय लोकसभा क्षेत्र की आठ विधानसभा सीटों में से छह भाजपा के पास थी और दो सीट कांग्रेस के पास थी। जबकि इस बार लोकसभा क्षेत्र में विधानसभा सीटों का उल्टा गणित है। इस बार कांग्रेस के पास छह और भाजपा के पास महज दो ही सीटें हैं। सारंगपुर व नरसिंहगढ़ सीट भाजपा के खाते में है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned