अब कार-मकान सहित कारोबार के लिए कर्ज दे सकेंगे सहकारी बैंक

जिला सहकारी बैंकों में बदलाव की तैयारी, अब कमर्शियल बैंकों की तर्ज पर होगा काम

By: Hitendra Sharma

Published: 07 Sep 2021, 09:02 AM IST

भोपाल. प्रदेश के जिला सहकारी बैंक अब कॉरपोरेट अंदाज में काम करेंगे। इसके लिए इन बेंकों के काम-काज के तौर तरीकों में बदलाव किया जाएगा। बैंक ऑनलाइन ट्रांजक्शन की सुविधा भी मुहैया कराएंगे। प्रबंधक से लेकर अन्य कर्मचारियों को बेकिंग स्किल की ट्रेनिंग दी जाएगी।

सहकारिता विभाग सहकारी बैंकोको फसल ऋण, किसान कर्ज के अलावा अब कार लोन, होम लोन और व्यावसायिक लोन के क्षेत्र में उतारने की तैयारी कर रहा है। बैंक कर्मचारियों को अलग-अलग स्तर पर प्रशिक्षित किया जाएगा।

Must See: कर्ज माफी की उम्मीद में 33 फीसदी किसान नहीं चुका रहे कर्ज

दरअसल, सहकारिता विभाग का सबसे ज्यादा फोकस उन बैंकों की ओर होगा, जो लगातार घाटे में हैं और वसूली में भी पिछड़े हुए हैं। सभी बैंक में कार्यालय के अंदर और बाहर ऑनलाइन कारोबार के लिए प्लेटफॉर्म तैयार किया जाएगा। सॉफ्टवेयर तैयार करने का काम एक निजी आइटी कंपनी को दिया गया है।

सीइओ से लेकर बाबू तक की होगी भर्ती
प्रदेश में 398 जिला सहकारी बैंक हैं। किसी भी बैंक में सीइओ नहीं हैं। ये बैंक प्रभारी सीइओ के भरोसे काम कर रहे हैं। अब सभी बैंकों में सीइओ से लेकर बाबू तक की नए सिरे से भर्ती की जाएगी। इसके लिए खाली पदों की जानकारी बुलाई गई है।

Must See: 5 करोड़ रुपए से अधिक की अनुदान के इंतजार में किसान

ये बनेंगे आइकॉन
मालवा क्षेत्र के सहकारी बैंक लाभ में हैं। किसानों से वसूली 90 फीसदी हो रही है। ये बैंक अन्य बैंकों के लिए आइकॉन होंगे। आयुक्त सहकारिता एवं पंजीयक सहकारी संस्थाएं नरेश पाल ने बताया कि सहकारी बैंकों को व्यावसायिक बैंकों की तर्ज पर काम-काज के लिए कहा है। खाली पदों पर भर्तियां होंगी।

Must See: बिजली और सरकारी योजनाओं में सब्सिडी पर चलेगी कैंची

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned